महागठबंधन के पक्ष में शरद यादव, लालू-नीतीश को दी नहीं तोड़ने की सलाह

मुजफ्फरपुर, मुजफ्फरपुर बालिका गृह, यौन शोषण कांड, शरद यादव, सीबीआई जांच, bihar, muzaffarpur, sharad yadav, cbi

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार में महागठबंधन पर एक पखवारे से सियासत काफी तेज है. बयानों का दौर थम नहीं रहा है. डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव को लेकर बीजेपी तो तंज कस ही रही है, महागठबंधन के घटक दलों जदयू व राजद के बीच भी रह-रह कर तकरार जारी है. इसी बीच अब जदयू के वरीय नेता शरद यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को अहम नसीहत दी है.

राज्यसभा सांसद व जदयू के वरीय नेता शरद यादव चाहते हैं कि बिहार में महागठबंधन बरकरार रहे. रविवार को मीडिया को दिये गये बयान में शरद यादव ने कहा कि बिहार के लिए महागठबंधन बहुत जरूरी है. उन्होंने कहा कि बिहार ही नहीं, यह गठबंधन देश के ​लेवल पर भी होना चाहिए. तभी आप बीजेपी के खिलाफ लड़ाई लड़ सकते हैं.

शरद यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को महागठबंधन नहीं तोड़ने की नसीहत दी है. उन्होंने कहा कि जनता ने महागठबंधन को वोट दिया है. किसी भी स्थिति में यह नहीं टूटना चाहिए. अन्यथा इससे बीजेपी को फायदा होगा. बता दें कि इसके पहले भी शरद यादव ने महागठबंधन के पक्ष में बयान दिया था और लालू प्रसाद के ठिकानों पर सीबीआई छापेमारी को भाजपा की साजिश बताया था.

गौरतलब है कि शरद यादव का महागठबंधन के पक्ष में दिये गये बयान इसलिए भी काफी मायने रखता है कि कल ही बिहार के सीएम नीतीश कुमार दिल्ली में वरीय नेता शरद यादव से मुलाकात की. लगभग एक घंटे तक चली इस मुलाकात में समझा जा रहा है कि महागठबंधन से लेकर तेजस्वी यादव तक के मुद्दे पर बात हुई है. हालांकि आधिकारिक रूप से यह कोई बताने को तैयार नहीं है कि बातचीत का निष्कर्ष क्या निकला.

इसके पहले नीतीश कुमार ने दिल्ली में ही कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की. हालांकि यह मुलाकात काफी कम देर की थी. मौके पर कांग्रेस के बिहार प्रभारी सीपी जोशी भी मौजूद थे. पॉलिटिकल कॉरिडोर में भी नीतीश-राहुल की मुलाकात को लेकर तरह-तरह के कयास लगाये जा रहे हैं. सूत्रों की मानें तो राहुल गांधी ने सीपी जोशी को महागठबंधन के नेताओं के बीच मध्यस्थता करने की जिम्मेवारी सौंपी है.

बता दें कि जिस तेजस्वी यादव को लेकर महागठबंधन में घमासान मचा है, वो भी अभी दिल्ली में ही हैं. चर्चा है कि तेजस्वी यादव कानूनविदों से मशवरा लेने में लगे हुए हैं. हालांकि तेजस्वी यादव को दिल्ली गये हुए आज पांचवां दिन है, लेकिन उन्होंने अब तक किसी दिग्गज राजनेताओं से भेंट नहीं की है. यह भी पॉलिटिकल कॉरिडोर में चर्चा का विषय बना हुआ है.

इसे भी पढ़ें : महागठबंधन के पेंच सुलझाने की कवायद, दिल्ली में राहुल गांधी से मिलने पहुंचे सीएम नीतीश 
राहुल गांधी अपने CM को नहीं हटा सके, तेजस्वी को कैसे सलाह दे सकते हैं