‘अब हेमा यादव पर मेहरबान हुए ललन चौधरी, दान में दे दी 68 लाख की जमीन’

पटना (नियाज़ आलम) : बेनामी संपत्ति को लेकर लालू परिवार पर भाजपा नेता सुशील मोदी का हमला जारी है. सुमो ने सीवान के ललन चौधरी द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के बाद अब उनकी बेटी हेमा यादव को जमीन दान देने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा है कि दानवीर ललन चौधरी ने केवल राबड़ी देवी को ही 30 लाख 80 हजार के मकान सहित 2.5 डिसमिल जमीन दान में नहीं दी, बल्कि कुछ अन्य लोग भी है जिनको दान कर ललन चौधरी ने पुण्य कमाया है.

सुमो ने बताया कि ललन चौधरी ने 25 जनवरी 2014 को राबड़ी देवी को 2.5 डिसमिल जमीन दान में दी थी. इसके मात्र 18 दिन बाद 62 लाख की 7.75 डिसमिल जमीन राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद की 5वीं बेटी हेमा यादव को दान में दे दी. चौधरी ने यह जमीन 29 मार्च 2008 को विशुन देव राय पिता देवकी राय से मात्र 4 लाख 21 हजार में खरीदी थी, यानि 8 वर्ष में जमीन का मूल्य लगभग 15 गुणा बढ़ गया और 4 लाख 21 हजार की जमीन का मूल्य 62 लाख दिखाया गया.

डीड की कॉपी
डीड की कॉपी

ललन चौधरी ने केवल 62 लाख की जमीन ही हेमा यादव को नहीं दिया बल्कि 6 लाख 28 हजार 575 रूपया का स्टाम्प ड्यूटी तथा निबंधन शुल्क भी चलान से एसबीआई पटना मुख्यालय शाखा में नगद जमा कराया. सुमो के मुताबिक ललन चौधरी ने दान देते समय डीड में लिखा है, कि डोनर (ललन चौधरी) लंबे समय से डोनी (हेमा) के काफी करीबी हैं और डोनी ने उनकी काफी आर्थिक मदद भी की है, इसलिए वह अपनी संपत्ति दान में देना चाहते हैं.

ललन चौधरी का घर(सीवान)
ललन चौधरी का घर(सीवान)

यानि ललन चौधरी ने मात्र 18 दिन में कुल एक करोड़ की सम्पति राबड़ी देवी और उनकी 5वीं बेटी हेमा यादव को दान कर दी. सुमो के मुताबिक ललन चौधरी, सियाडिह पंचायत में बी.पी.एल. सूची में शामिल है तथा इन्हें इंदिरा आवास भी आवंटित हुआ जिसके पैसे से इन्होनें गाँव में मकान बनाया है. गाँव के लोगों ने बताया कि ललन चौधरी 20 वर्षो से लालू प्रसाद के खटाल में जानवारों को चारा खिलाने का काम करते है. भाजपा नेता ने सवाल उठाते हुए कहा कि आखिर ललन चौधरी बी.पी.एल. के पास एक करोड़ की सम्पति कहां से आई जिसकी आज कीमत पांच करोड़ से कम नहीं है? ललन चौधरी ने करोड़ों की सम्पति क्यों राबड़ी देवी एवं हेमा यादव को दान कर दी? आखिर हेमा यादव ने क्या आर्थिक मदद की जिसके एवज में ललन चौधरी ने करोड़ों की सम्पति दान कर दी?

आखिर क्यों लालू प्रसाद आज तक ललन चौधरी को मीडिया के समक्ष हाजिर नहीं कर पाए? विशुन देव राय एवं रत्नेश्वर यादव के परिवार के सदस्यों को रेलवे में नौकरी या अन्य काम के एवज में लालू प्रसाद के विश्वस्त नौकर ललन चौधरी बी.पी.एल. के नाम से वर्ष 2008-2009 में पटना शहर की अत्यंत कीमती जमीन मुफ्त में लिखवा ली गई. पूर्व उप मुख्यमंत्री ने कहा कि इस करोड़ों की जमीन को 6 साल बाद ललन चौधरी से दान लिखवाकर राबड़ी देवी एवं हेमा यादव को वापस परिवार के कब्जे में कर लिया गया.

यह भी पढ़ें-
सुशील मोदी ने नीतीश कुमार से पूछ दिए हैं कुछ असहज करने वाले सवाल
कौन है ललन चौधरी जिसने राबड़ी को 31 लाख की जमीन दान में दे दी
लालू को जमीन देने वाले चौधरी की हत्या हो गई क्या, जानना चाहते हैं मोदी