बिहार : तेजप्रताप की मुरली की तान ने बढ़ाया कृष्णा का मनोबल, दोगुना हुआ जोश

खगड़िया (मनीष कुमार) : कहते हैं कि संगीत में जादू है. संगीत ऐसी विधा है, जिससे खुशियां दोगुनी हो जाती है तो गम आधा हो जाता है. कुछ ऐसा ही देखने को मिला बिहार की सियासत में. मामला खगड़िया से जुड़ा हुआ है. दरअसल रांची में सीबीआई कोर्ट के फैसले आने के बाद से राजद परिवार में दुखी का माहौल है. चारा घोटाला में दोषी करार दिये जाने के बाद राजद सुप्रीमो रांची के होटवार जेल में बंद हैं. लेकिन इन सबके बीच राजद कार्यकर्ताओं में छायी मायूसी को उनके पुत्र तेजप्रताप यादव कम कर रहे हैं. वे अपनी मुरली की तान से राजद नेताओं के गम को आधा ही नहीं कर रहे हैं, बल्कि उनमें जोश भी भर रहे हैं.

ऐसा ही एक मामला सोमवार को तब सामने आया, जब खगड़िया की राजद नेत्री सह पार्टी की पूर्व लोकसभा प्रत्याशी कृष्णा कुमारी यादव पटना स्थित राबड़ी आवास पर पहुंची. उस समय आवास पर पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के अलावा उनके पुत्र पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव भी थे. हालांकि यह मौका था लालू फैमिली के संकट की घड़ी में उनके परिवार के सदस्यों के प्रति संवेदना व्यक्त करने का. लेकिन आत्मविश्वास से लबरेज तेज की मुरली की सुरीली धुन मानों कार्यकर्ताओं को यह संदेश दे गया कि भले ही थोड़ा गम है, लेकिन विचलित कदापि नहीं होना है.



राबड़ी आवास पर मुरली बजाते तेजप्रताप.

मौके पर विधायक व पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव खगड़िया ही नहीं, वहां पहुंच रहे अन्य राजद नेताओं व कार्यकर्ताओं में भी जोश भर रहे हैं. उनके मनोबल को बढाने से भी वे नहीं चूक रहे हैं. कृष्णा यादव ने लाइव सिटीज को बताया कि एक अच्छे नेता का वे रोल निभा रहे हैं. वे इस विषम परिस्थितियों में भी अपने कार्यकर्ताओं का मनोबल गिरने नहीं दे रहे हैं. तेजप्रताप यादव अपनी भूमिका बखूबी निभा रहे हैं.

पटना में राबड़ी देवी से मिलने पहुंची खगड़िया की राजद नेत्री कृष्णा यादव

तेजप्रताप यादव अपनी मुरली की तान से नेताओं का मनोबल ही नहीं बढ़ा रहे हैं, बल्कि उनके जोश को डबल कर रहे हैं. राजद नेत्री कृष्णा कुमारी यादव ने राबड़ी देवी से काफी देर तक बात की. उन्होंने मुलाकात के क्रम में उन्हें हिम्मत देने का भी काम किया. उन्होंने बताया कि अपनों की पहचान दुःख की घड़ी में ही होती है. और इस संकट की घड़ी में भी पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी जिस धैर्य से रह रही हैं और कार्यकर्ताओं से एकजुट रहने की अपील की, वह प्रशंसनीय है. तेजप्रताप यादव भी कार्यकर्ताओं से डटे रहने को कहा है. उन्होंने कहा कि राजद सुप्रीमो के जेल जाने पर उन्हें गम जरूर है, लेकिन वे विचलित कदापि नहीं हैं.

लालू प्रसाद ने भेजा है संदेश, बताया है कि कौन देखेगा अब उनका ट्विटर हैंडल