इंटर परीक्षा गड़बड़झाला : सीतामढ़ी में मिला एक और ‘गणेश’

यह है राजेश कुमार, म्यूजिक में मिले हैं 71 अंक

सीतामढ़ी/लाइव सिटीज डेस्क : इंटरमीडिएट के रिजल्ट की ‘आग’ में पूरा प्रदेश आंदोलित है. एक सप्ताह से इंटर काउंसिल के सामने लगातार प्रदर्शन हो रहा है. वहीं फर्जी आर्ट्स टॉपर गणेश के फर्जीवाड़े का मामला अभी थम भी नहीं रहा है कि सूबे में एक और ‘गणेश’ मिल गया है. यह ‘गणेश’ सूबे के सीतामढ़ी में मिला है.



दरअसल इंटर रिजल्ट को लेकर बिहार सरकार की काफी किरकिरी हो रही है. आये दिन परिणाम से जुड़े नये-नये स्कैम सामने आ रहे हैं. इसी कड़ी में सीतामढ़ी का नाम भी जुड़ गया है. यहां भी एक ‘गणेश’ टाइप स्टूडेंट मिला है. उसे भी इंटर आर्ट्स के रिजल्ट में संगीत 71 मार्क्स दिये गये हैं. खास बात कि संगीत के बारे में उसे किसी तरह की कोई खास जानकारी नहीं है. उसे तो सा, रे गा, मा का भी ठीक से पता नहीं है.

यह है राजेश कुमार, म्यूजिक में मिले हैं 71 अंक

एक बार फिर लाइव सिटीज की टीम ने इसकी पड़ताल की तो यह चौंकानेवाला खुलासा हुआ है. पड़ताल में यह बात भी सामने आयी है कि राजेश कुमार जिस संस्कृत बोर्ड की ओर से जारी मध्यमा के मार्कशीट के आधार पर इंटर आर्ट्स में एडमिशन लिया था, वह भी संदेह के घेरे में है. यह भी जानकारी मिली कि राजेश को म्यूजिक छोड़ कर सभी विषयों में महज पास मार्क्स ही मिले हैं. सीतामढ़ी के सुरसंड के जवाहर लाल नेहरू मेमोरियल कॉलेज नवाही से इंटर कला के 32 वर्षीय छात्र राजेश कुमार का रोल कोड 32013 और रोल नंबर 17030359 है. उसने थर्ड डिविजन से परीक्षा पास की है.

sitamarhi
इस बार इंटर में सभी विषयों में महज पास मार्क्स मिले हैं

जांच में यह बात भी सामने आयी है कि कॉलेज में जमा किये गये डॉक्यूमेंट में बिहार संस्कृत शिक्षा बोर्ड की ओर से जारी मध्यमा का सर्टिफिकेट लगाया है. उसके आधार पर उसने वर्ष 2006 में इसकी परीक्षा दी थी. इंटर के एडमिशन में सिर्फ मार्कशीट ही दिया गया है. इसके अलावा कोई सर्टिफिकेट या प्रोबिजनल सर्टिफिकेट भी नहीं दिया गया है. इससे वह मार्कशीट भी संदेह के घेरे में हैं. कॉलेज प्रशासन भी इस बाबत संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया.

मध्यमा के अंक पत्र के आधार पर लिया था कॉलेज में एडमिशन

चौंकाने वाली बात यह है कि इंटरमीडिएट का रिजल्ट जो जारी हुआ है, लगभग सभी विषयों में पास मार्क्स मिले हैं. अंग्रेजी में 50 में से 15, हिंदी में 100 में से 30, सोशल साइंस में भी 100 में से 30, साइकोलॉजी में अनिवार्य 21 नंबर ही मिले हैं. लेकिन म्यूजिक के अंक ने उसे ‘गणेश’ की श्रेणी में ला दिया है. राजेश को म्यूजिक में 71 अंक दिये गये हैं. इनमें से थ्योरी में 9 और प्रैक्टिकल में 62 अंक दिये गये हैं.

जब 71 अंक लाने वाले राजेश कुमार से मीडिया ने बात की तो संगीत के बारे में सा, रे, गा, मा को तो छोड़ दीजिए, उसे तो अपने कॉलेज का नाम तक पता नहीं था. वहीं जब इस बारे में कॉलेज प्रशासन से बात की गयी तो उसने भी सही से छात्र के बारे में कोई जवाब नहीं दे पाया. कॉलेज के प्रभारी प्राचार्य प्रो नागेंद्र राउत से जब टीम ने बात की तो वे भी बचते नजर आये. इतना ही नहीं, उन्होंने अपना ठीकरा म्यूजिक एक्सटर्नल पर फोड़ दिया. बहरहाल यदि सही से जांच हो तो इंटरमीडिएट की परीक्षा में कितने ही ‘गणेश’ पकड़े जाएंगे.

इसे भी पढ़ें : TOPPER SCAM में बड़ा खुलासा : म्यूजिक प्रैक्टिकल में बिना बैठे ही गणेश हो गया टॉप 
GANGS OF CBSE (1) : धंधा बहुत गंदा है, 500 करोड़ का सालाना बाजार है बिहार 
GANGS OF CBSE (2) : स्टिंग में खुलासा, खुली ठेकेदारी है स्कूलों की, पता सबों को है