पटना नगर निगम : कौन संभालेगी ‘मुहल्ले की सरकार’ की कुर्सी, हो रही जबर्दस्त लॉबिंग…!

लाइव सिटीज डेस्क : पटना नगर निगम का रिजल्ट निकल गया है. इसमें आधा आबादी ने जबर्दस्त परचम लहराया है. लगभग 65 परसेंट सीटों पर इस बार महिलाओं ने कब्जा जमाया है. रिजर्व सीट से इतर भी कई सीटों पर महिलाएं खड़ी थीं. इसके पीछे ‘मेयर पॉलिटिक्स’ बड़ा कारण माना जा रहा है. इसे लेकर लॉबिंग भी अब शुरू हो गयी है. बताया तो यहां तक जा रहा है कि बिहार के बाहर भी इसकी पॉलिटिक्स शुरू हो गयी है. बता दें कि 19 जून को मेयर का चुनाव होना है.

दरअसल पटना नगर निगम के इतिहास में पहली बार महिला मेयर बनेगी. बताया जाता है कि आजादी के बाद से ही यहां पुरुष ही मेयर बनते आ रहे थे. इस बार इसमें बदलाव कर दिया गया. मेयर सीट को महिला कोटे में डाल दिया गया. इससे वैसे पुरुष प्रत्याशियों को काफी झटका लगा, जो मेयर बनने का सपना पाले हुए थे. यही वजह रही कि अचानक पटना नगर निगम के चुनाव में महिला प्रत्याशियों की बाढ़ आ गयी. महिला ​रिजर्व सीटों के इतर भी कई जनरल सीटों पर महिला उम्मीदवारों को खड़ा किया गया.

इसके पीछे ‘मेयर पॉलिटिक्स’ ही काम कर रही थी. चुनाव प्रचार के दौरान भी यह देखने को मिला. कई उम्मीदवारों ने तो मेयर के नाम पर ही वोट मांग रहे थे. भले ही महिला प्रत्याशी थी, लेकिन दुहाई उनके पति ही दे रहे थे. इसका असर रिजल्ट पर भी रहा. 75 वार्डों वाले पटना नगर निगम में कुल 49 महिलाओं ने कामयाबी हासिल की. यानी मुहल्ले की सरकार में इस बार 49 महिला पार्षद होंगी. बता दें कि कुल 1008 प्रत्याशियों के बीच चुनाव मैदान में 515 महिला उम्मीदवार भाग्य आजमा रही थीं. हारनेवालों में कई वैसी महिलाएं भी रहीं, जो मेयर पद के लिए प्रबल दावेदार मानी जा रही थीं.

 

बहरहाल मेयर पद को लेकर लॉबिंग शुरू हो गयी है. प्रबल दावेदार पार्षदों से संपर्क साधना शुरू कर दिया है. इसकी कवायद तेज हो गयी है. सूत्रों की मानें तो कुछ के बिहार के बाहर ले जाने की रणनीति चल रही है. इसमें देहरादून से लेकर काठमांडु तक की चर्चा चल रही है. सूत्रों की मानें तो शुक्रवार को रिजल्ट आते ही कई प्रत्याशियों ने मेयर का चुनाव लड़ने का पासा भी फेंक दिया है. मेयर पद के प्रत्याशियों में सबसे प्रबल दावेदार निवर्तमान मेयर अफजल इमाम की पत्नी मेहजवीं अफजल को माना जा रहा है. मेहजवीं ने वार्ड 52 से चुनाव जीता है. यह सीट भी महिला कोटे में जाने के कारण अफजल इमाम ने यहां से अपनी पत्नी को लड़ाया था.

मेहजवीं के अलावा वार्ड 22-बी से निर्वाचित सुचित्रा सिंह, वार्ड 39 से निर्वाचित भारती देवी, वार्ड 32 से निर्वाचित पिंकी यादव, वार्ड 21 से निर्वाचित पिंकी कुमारी, वार्ड 44 से निर्वाचित माला सिन्हा को भी मेयर पद के लिए दावेदार माना जा रहा है. बता दें कि वार्ड 39 की भारती देवी को लोग इसलिए कम नहीं आंक रहे हैं कि वे पटना जल पर्षद के अध्यक्ष अशोक यादव की पत्नी हैं. उनकी भी राजनीति में अच्छी खासी पकड़ है. इसी तरह 43 की नवनिर्वाचित पार्षद प्रमीला वर्मा देवी की यह लगातार चौथी जीत है. वे भी खुद को मेयर पद की दावेदार मान रही हैं.

 

राजनीतिक गलियारों में हो रही चर्चा के अनुसार भले ही यह चुनाव दल के आधार पर नहीं हो रहा है, लेकिन मेयर के चुनाव में इसका जबर्दस्त असर रहेगा. यही वजह है कि बड़ी बड़ी राजनीतिक पार्टियों के कार्यालय में भी दावेदारों का आना जाना शुरू हो गया है. महागठबंधन और एनडीए के इर्द गिर्द चहलकदमी बढ़ गयी है. क​​हें तो मेयर पॉलिटिक्स में राजनीतिक दलों का आधार भी देखा जा रहा है.

इसे भी पढ़ें : Final Result : ये रहे पटना नगर निगम के नए पार्षद, मेयर का चुनाव 19 जून को