पहलवान सुशील कुमार ने कहा- तो मुझे फांसी पर चढ़ा दीजिएगा…

रिंग में जाने के पहले भगवान को याद करते पहलवान भारतीय सुशील कुमार

लाइव सिटीज डेस्क : पहलवान सुशील कुमार अचानक चर्चा में आ गए हैं. इस बार भी चर्चा मारपीट को लेकर ही है, लेकिन मामला पहलवानी का नहीं है. यह मामला मारपीट को लेकर हुए प्राथमिकी का है. दरअसल बीजिंग व लंदन ओलंपिक में देश के लिए पदक जीतने वाले पहलवान सुशील कुमार के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है. इसी प्राथमिकी को लेकर रविवार को वे भड़क गए. दिल्ली पुलिस ने पहलवान सुशील कुमार और उनके समर्थकों के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

कॉमनवेल्थ खेलों के लिए क्वालिफाई करनेवाले पहलवान सुशील कुमार ने कहा कि इस पूरे मामले से मैं दुखी हूं. उन्होंने यह भी कहा कि अगर मैं दोषी पाया जाता हूं तो फांसी पर चढ़ा दिया जाए. उन्होंने कहा कि मुकाबले के बाद प्रवीण से वह मिले तो मुझे फांसी पर चढ़ा दिया जाए. उन्होंने कहा कि मैं अपना ड्रेस बदलने के लिए रूम में चला गया था. इसके बाद मैं रेस्टलिंग हॉल में चला गया. ऐसे में किसी को मारने-पीटने का सवाल ही नहीं है.



सुशील कुमार की बढ़ीं मुश्किलें, प्रतिद्वंद्वी पहलवान को ‘समर्थकों’ ने पीटा तो दर्ज हुई FIR

हालांकि पहलवान सुशील कुमार ने यह भी कहा कि जो कुछ भी हुआ, वह नहीं होना चाहिए. चाहे वह मेरे घर का ही मामला क्यों नहीं हो. उन्होंने कहा कि प्रवीण ने बाउट के दौरान न सिर्फ उन्हें काटा, बल्कि उनका घुटने को भी तोड़ने की कोशिश की. यह सब प्रवीण ने जानबूझकर किया है. बता दें कि इसे लेकर सुशील कुमार और उनके समर्थकों पर पहलवान प्रवीण राणा की पिटाई करने का आरोप है. दिल्ली पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 323 और 341 के तहत मामला दर्ज किया है. मारपीट तब हुई है, जब इंदिरा गांधी स्टेडियम में अगले साल होनेवाले राष्ट्रमंडल खेलों के लिए ट्रायल चल रहा था.

सुशील कुमार ने ट्रायल में प्रवीण राणा को हरा दिया और वे टीम में चयनित हो गए, लेकिन दोनों ही पहलवानों के समर्थक बाउट के बाद आपस में भिड़ गए. इसमें राणा के तीन समर्थक जख्मी हो गए. राणा के समर्थकों ने इस दौरान पुलिस को भी बुला लिया. पीड़ितों ने सुशील कुमार के समर्थकों पर मारपीट करने का आरोप लगाते हुए पुलिस को शिकायत दी थी. प्रवीण राणा ने अपनी शिकायत में कहा कि आरोपियों ने सुशील के सामने रिंग में उतरने से मुझे मना किया और स्टेडियम के आसपास भी दिखने पर जान से मारने धमकी दी थी.