बिहार की नई कैबिनेट में यादव-मुसलमान घटे, दलित-अतिपिछड़े बढ़े

पटनाः बिहार की कोई भी राजनीति बगैर जात की नहीं होती. ऐसे में, बिहार कैबिनेट के गठन में जातियों का ख्याल रखा गया है. दूसरी बात है कि महागठबंधन और एनडीए के स्वरूप में बदलाव के कारण यादव और मुसलमान मंत्रियों की संख्या कम हो गई है. महिला सिर्फ एक ही है. भाजपा ने किसी महिला को मंत्री नहीं बनाया है. अतिपिछड़े और दलित समुदाय के मंत्रियों की संख्या बढ़ी है.

महागठबंधन की सरकार में कुल सात यादव मंत्री थे. ये थे- तेजस्वी यादव, तेजप्रताप यादव, रामविचार राय, चंद्रशेखर, विजेंद्र प्रसाद यादव, विजय प्रकाश और चंद्रिका राय. मुसलमानों में महागठबंधन की सरकार में मंत्री थे- अब्दुल बारी सिद्दीकी, अब्दुल जलील मस्तान, अब्दुल गफूर और खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद. एनडीए के नए मंत्रिमंडल में अकेले खुर्शिद उर्फ फिरोज मंत्री बने हैं. यादवों के बीच से नई सरकार में विजेंद्र प्रसाद यादव, दिनेश चंद्र यादव और नंदकिशोर यादव को मंत्री बनाया गया है. नए मंत्रिपरिषद में सवर्ण मंत्रियों की संख्या भी बढ़ गई है. फिर भी कायस्थ जाति से कोई मंत्री नहीं बनाया गया है.

आगे आप सभी मंत्रियों की जाति को जान लें-

जदयू से-

ललन सिंह – भूमिहार
विजेंद्र यादव – यादव
श्रवण कुमार – कुर्मी
कृष्णनंदन वर्मा – कुशवाहा
महेश्वर हजारी – पासवान
मदन सहनी – मल्लाह
संतोष निराला – दलित
खुर्शीद आलम फ़िरोज़ -मुस्लिम
शैलेश कुमार – धानुक
जयकुमार सिंह – राजपूत
मंजू वर्मा – कुशवाहा
कपिलदेव कामत – धानुक
रमेश ऋषिदेव – दलित
दिनेश चंद्र यादव – यादव

बीजेपी से-

नंदकिशोर यादव – यादव
प्रेम कुमार – कहार
रामनारायण मंडल – वैश्य
मंगल पांडेय – ब्राह्मण
विनोद नारायण झा – ब्राह्मण
सुरेश शर्मा – भूमिहार
कृष्ण कुमार ऋषि – दलित
बिनोद सिंह – कुशवाहा
राणा रणधीर – राजपूत
विजय कुमार सिन्हा – भूमिहार
प्रमोद कुमार – वैश्य
बृजकिशोर बिंद- बिंद
पशुपति कुमार पारस- पासवान

यह भी पढ़ें-

बंट गए विभागः कृष्णनंदन को शिक्षा, नंदकिशोर को पथ निर्माण विभाग

हो गया शपथ ग्रहण, बिहार को ‘सुशासन’ देंगे नीतीश-मोदी के 26 मंत्री

पारस की खुल गई लॉटरी : मांझी अब भी फोन करेंगे, कुशवाहा पंखा चलायेंगे

पासवान ने ‘फैमिली पॉलि​टिक्स’ में पछाड़ दिया लालू को

मांझी के बाद अब उपेंद्र कुशवाहा की टीम कैबिनेट से बाहर, नहीं माने नीतीश