नसीमुद्दीन सिद्दीकी का बसपा से पत्ता साफ, पैसा वसूली का आरोप

लाइव सिटीड डेस्क : यूपी के चुनाव में बसपा के खराब प्रर्दशन के बाद सियासी पारा चढ़ा हुआ है. चुनावी में करारी शिकस्त के बाद सपा के अंदरखाने में खलबली मची तो आज बुधवार को मायावती की पार्टी बहुजन समाजवादी पार्टी (बसपा) से बड़ी खबर आई.



बसपा ने अपने पार्टी के कद्दावर नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी का पत्ता साफ करते हुए उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया. बसपा ने नसीमुद्दिन सिद्दीकी के साथ उनके बेटे अफजल को भी पार्टी से बाहर कर दिया है. नसीमुद्दीन सिद्दीकी पार्टी में बतौर महासचिव के पद पर थे और उनको मध्य प्रदेश का प्रभार दिया गया था. बसपा के सेकेंड मैन माने जाने वाले सतीश चंद्र मिश्रा ने बुधवार को इसकी जानकारी दी. सतीश चंद्र मिश्रा ने बताया कि नसीमुद्दीन सिद्दीकी को पार्टी विरोधी गतिविधियों की वजह से पार्टी से निकाला गया है.

सतीश चंद्र मिश्रा ने मिश्रा ने आरोप लगाया कि सिद्दीकी ने पश्चिमी यूपी में बेनामी संपत्ति बनाई और अवैध बूचड़खाने भी चला रहे थे. साथ ही उन्होंन कहा कि नसीमुद्दीन सिद्दीकी पार्टी के नाम पर वसूली करते थे. उन्होंने कहा कि सिद्दीकी और उनके बेटे को पार्टी के सभी पदों से बर्खास्त करने के साथ-साथ उन्हें पार्टी से निकालने का फैसला किया गया है. यह माना जा रहा था कि यूपी विधान सभा चुनाव के बाद से ही नसीमुद्दीन सिद्दीकी का पार्टी में कद छोटा कर दिया गया था. जबकि ये सब को पता है नसीमुद्दीन सिद्दीकी का बसपा में चुनाव के पहले काफी हनक थी. बसपा से निकाले जाने के बाद नसीमुद्दीन सिद्दीकी किस नाव पर सवार होंगे इस बात को लेकर कयास लगाये जा रहे हैं.

यह भी पढे़ं-बोले योगी- अकबर और बाबर सिर्फ विदेशी हमलावर, ये स्वीकार लें