जरूरी खबर : NEET और JEE की परीक्षा अब साल में दो बार, बदल गए हैं और भी बहुत नियम

लाइव सिटीज डेस्क : NEET और JEE जैसी बड़ी परीक्षा को लेकर बड़ी घोषणा की गई है. मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने अब नेशनल एलेजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET) और जॉइंट एंट्रेंस एग्जाम (JEE) को साल में दो बार कराए जाने को हरी झंडी दे दी है. MHRD मिनिस्टर प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस कांफ्रेंस कर यह जानकारी दी है. उन्होंने कहा कि अब NEET, NET और JEE परीक्षाओं का आयोजन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी कराएगी. बता दें कि पहले यह जिम्मा CBSE के पास था. प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि नेशनल टेस्‍टिंग एजेंसी ने अपना काम शुरू कर दिया है.

मानव संसाधन विकास मंत्री ने बताया कि नेट की परीक्षा साल में एक बार दिसंबर में होगी. वहीं जेईई मेन्स की परीक्षा साल में दो बार होगी. नीट की परीक्षा भी फरवरी और मई में दो बार होगी. दोनों परीक्षाओं में से बेस्ट स्कोर के आधार पर एडमिशन होगा. हर एग्जाम चार-पांच दिनों तक होगा. छात्रों के पास परीक्षा की तारीख चुनने की सुविधा होगी. परीक्षा के दौरान सुरक्षा का विशेष ध्यान रखा जाएगा. कोई छात्र अगर परीक्षा की तारीख मिस करता है तो उसे दूसरा चांस भी मिल सकता है.

उन्‍होंने कहा कि यह ऑनलाइन नहीं बल्कि कम्प्‍यूटर बेस्ड एग्जाम होगा. इस तरह की परीक्षा से पारदर्शिता बढ़ेगी और धोखाधड़ी की संभावना कम होगी. उन्होंने कहा कि एसएससी की परीक्षा भी कंप्यूटर बेस्ड थी लेकिन फिर भी यह धोखाधड़ी का शिकार हो गई, एनटीए मॉड्यूल स्क्रीन शेयरिंग की अनुमित नहीं देता है. मंत्रालय ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि समय पर परीक्षा के परिणाम सुनिश्चित करने के लिए परीक्षाओं में अत्यधिक सुरक्षित आईटी सॉफ्टवेयर और एन्क्रिप्शन का उपयोग किया जाएगा.

जावड़ेकर ने बताया कि भारत की परीक्षा प्रणाली को विदेशों की तरह पारदर्शी बनाने के लिए सभी परीक्षाओं को कम्प्‍यूटर के जरिए लेने का निर्णय लिया गया है. उन्‍होंने बताया कि पाठ्यक्रम, फीस और भाषाओं में किसी भी तरह का कोई बदलाव नहीं किया गया है.

परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्‍नों के पैटर्न में भी किसी तरह का बदलाव नहीं किया गया है. उन्‍होंने कहा कि नीट में 13 लाख स्टूडेंट्स होते हैं, जबकि जेईई में 12 लाख और सीमैट में 1 लाख छात्र बैठते हैं. जावड़ेकर ने बताया कि कम्प्‍यूटर केंद्रों की घोषणा जल्द होगी. परीक्षा के दौरान इस बात का भी ध्‍यान रखा जाएगा कि छात्र अपने नजदीकी केंद्रों पर एग्जाम दे सकें.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*