बिना परमिट बिहार से दिल्ली चल रही बस, क्या कर रही है परिवहन विभाग

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बुधवार रात लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर हुए भीषण दुर्घटना में बस सवार 14 लोगों की मौत हो गई है. वहीं 24 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. मृत लोगों में पांच बिहार के मोतिहारी के रहने वाले हैं. दुर्घटना के बाद कई सवाल उठ रहे हैं. जानकारी के अनुसार, जिस बस की दुर्घटना हुई है उसे परिवहन विभाग ने ब्लैक लिस्ट किया था.

बिहार से दिल्ली जाने के लिए 50 से अधिक बसें रोज चलती हैं. लेकिन, परिवहन विभाग ने किसी भी निजी बस को परमिट नहीं दिया है. फिर कैसे इन बसों का परिचालन होता है? इसके बाद से परिवहन विभाग कटघरे में खड़ा हो गया है. खुलासा हुआ है कि हादसे वाली बस यूपी की है और यह टूरिस्ट बस है. लेकिन यह बिहार से दिल्ली बस चलायी जा रही थी. सवाल यह है कि परमिट नहीं होने के बावजूद बस सैकड़ों किलोमीटर दूर बस जाती और आती थी. लेकिन प्रशासन इससे बिलकुल बेखबर था.



वहीं, आगरा एक्सीडेंट में बस चालक की लापरवाही सामने आई है. बताया जा रहा है कि बस चालक नशे में था. ड्राइवर की गलती के कारण एक्सीडेंट हुआ है. इसमें बस चालक की भी मौत हो गई है. एसएसपी सचिंद्र पटेल ने बताया कि एक्सप्रेस वे पर एक ट्रक पंक्चर हो गया था. उसका ड्राइवर सड़क किनारे ट्रक खड़ा करके पहिया बदल रहा था. रात 10 बजे तेज रफ्तार बस ने पीछे से टक्कर मार दी. हादसा इतना जबरदस्त था कि बस का अगला हिस्सा पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया है.

नीतीश कुमार ने की मुआवजे की घोषणा

आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे हादसे पर शोक सीएम नीतीश कुमार ने व्यक्त संवेदना की है. सीएम ने इस हादसे पर शोक जताते हुए मुख्यमंत्री राहत कोष से परिजनों को दो लाख रुपया और घायलों को 50 हजार रुपया देने की घोषणा की है.