कैसै करोड़ों के बेनामी संपत्ति का मालिक बना लालू एंड फैमिली?, सुशील मोदी ने ट्वीट कर पूछा सवाल

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट कर 2005 के पहले की सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने लिखा कि साल 2005 के पहले बिहार के लोग अच्छी सड़क, अच्छे स्कूल-कालेज, अस्पताल और बिजली-पानी के लिए दुख झेलते रहे, जबकि इन योजनाओं का पैसा घोटाले में चला जाता था.

उसी दौर के चारा घोटाला में लालू प्रसाद और अलकतरा घोटाले में दोषी इलियास हुसेन सजा काट रहे हैं. उस दौर के कितने घोटालेबाज पूरी सजा काटे बिना दुनिया से चले गए.



आगे उन्होंने लिखा कि तेजस्वी यादव बेरोजगारी, आईटी पार्क, कल-कारखाने आदि पर जो भी सवाल एनडीए सरकार से पूछ रहे हैं, वे तो सवाल उन्हें अपने माता-पिता से पूछने चाहिए, जिनके कारण बिहार खोखला हो चुका था.

लालू प्रसाद ने अपने बच्चों को क्यों नहीं बताया कि चपरासी क्वार्टर से राजनीति करने वाला उनका परिवार पटना, दिल्ली सहित अनेक स्थानों पर अरबों की सम्पत्ति और फार्म हाउस का मालिक कैसे बन गया?.

सम्पत्ति पेड़ पर नहीं फली, बल्कि विकास योजनाओं से कपट कर अपने घर लायी गई थी, इसलिए बिहार पिछड़ता गया, मगर लालू परिवार की सम्पदा बढ़ती गई. जननायक कर्पूरी ठाकुर दो बार मुख्यमंत्री बनने के बावजूद अपना मकान नहीं बनवा सके, क्योंकि उन्हें बिहार की चिंता थी.

सुशील कुमार मोदी ने आगे लिखा कि लालू प्रसाद मुख्यमंत्री बनने के बाद हर काम के लिए जमीन लिखवाने लगे. तेजस्वी यादव को पूछना चाहिए कि पार्टी और परिवार ने कर्पूरी जी के आदर्श क्यों नहीं अपनाये?.