लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्कः बिहार में जल-जीवन-हरियाली के प्रति जागरूकता के लिए 19 जनवरी को बनने वाली मानव श्रृंखला पर विपक्ष सवाल उठा रहा है. इस मानव श्रृंखला के विरोध में फिर बयानबाजी हुई है. आरजेडी नेता शिवचंद्र राम ने कहा है कि इससे पहले भी सरकार कई योजनाओं को लेकर मानव श्रृंखला बना चुकी है. इसमें शराबबंदी सबसे अहम थी. लेकिन सवाल यह उठता है कि क्या शराब बिहार में मिलनी बंद हो गई.

शिवचंद्र राम यहीं नहीं रुके. उन्होंने आगे कहा कि शराबबंदी क्या बिहार में सफल हो गयी. उन्होंने नीतीश सरकार से पूछा है कि क्या हर गांव में शराब नहीं मिल रहा है. क्या यह बात नीतीश कुमार के अधिकारी नहीं जान रहे हैं. उन्होंने कहा कि सभी जानते हैं कि बिहार में शराब कितनी धड़ल्ले से बेची और खरीदी जा रही है. लेकिन सरकार इसपर कुछ नहीं कर रही है. शराबबंदी के बाद और भी ज्यादा शराब की सप्लाई बिहार में बढ़ गई है.

इधर जन अधिकार पार्टी के युवा परिषद के प्रदेश उपाध्यक्ष राजू दानवीर ने भी अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि जल जीवन हरियाली कार्यक्रम सिर्फ सरकारी खजाने की लूट है. सरकार दहेज प्रथा और शराबबंदी जैसे चीजों पर लगाम लगाने में असहज है. गांव गांव में शराब मिल रही है. सरकार उस पर नकेल नहीं कस पा रही है.

आपको बता दें कि बिहार में 19 जनवरी को जल जीवन हरियाली कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए मानव श्रृंखला की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है. पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरुक करने के लिए सूबे के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार मानव शृंखला बनवा रहे हैं. इस आयोजन को सफल बनाने के लिए सीएम ने बिहार के तमाम जिलों में जाकर लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरुक किया है. आपको बता दें कि मानव शृंखला की लंबाई 16351 किलोमीटर अनुमानित है, तो इसमें 4 करोड़ से अधिक लोग शामिल होंगे.