समस्तीपुर में CM नीतीश नाश्ता करने पहुंच गए यहां,साथ में मंत्री विजय कुमार चौधरी और संजय झा भी..

लाइव सिटीज, पटना डेस्क: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) का समाज सुधार यात्रा का कारवां समस्तीपुर (Samstipur) में हैं. इस दौरान उन्होंने जिले के पटेल मैदान (Patel maidan) में सभा को संबोधित किया. फिर अपने गुरू नंदकिशोर प्रसाद सिंह (Nandkishor Prasad singh) से मिलने उनके गांव भगवानपुर कमला गांव (Bhagwanpur Kamla Village) पहुंच. वहां अपने बीमार गुरू से मिलकर उनका आशीर्वाद लिया. इसके बाद अपने सहयोगी मंत्रियों के साथ नाश्ता (Breakfast) करने शहर के बाबा रिसोर्ट (Baba Resort) पहुंच गए. यहां पर मंत्री विजय कुमार चौधरी (Vijay Kumar Chaudhary), मंत्री संजय झा (Sanjay Jha) के साथ बैठकर उन्होंने नाश्ता किया.

इसके पूर्व सीएम नीतीश ने पटेल मैदान में सभा को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने शराबबंदी कानून की तारीफ करते हुए कहा कि शराब पीने से कभी भी फाईदा नहीं हो सकता है और अभी हाल ही में अलग अलग जिले में 40 लोगों की मौत जहरीली शराब पीने से हो गई..इसलिए उन्हौने बयान दिया था कि जो शराब पीएगा तो मरेगा ही .जहरीली शराब से हुए मौत पर हल्ला करने के बजाय शराब पीने का विरोध सबलोगो को मिलजुल कर करना चाहिए. अगर पीना ही है तो नीरा पीजिए..यह आपके शरीर को फाईदा होगा.इसके साथ ही उऩ्हौने कहा कि नीरा के नाम पर ताड़ी का सेवन कभी भी न करें क्योंकि यह ताड़ी शराब की तरह ही नुकशानदायक होता है.

वहीं महिलाओं के स्वाबलंबन की चर्चा करते हुए कहा कि पुरूष के साथ अगर महिलाए साथ-साथ काम करे तो परिवार का तेजी से विकास होता है. इसलिए उन्होने सबसे पहले बिहार के पंचायत चुनाव और नगर निकाय का चुनाव में महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण दिया. उनके काम की देखा-देखी दूसरे राज्य में भी महिलाओं को आरक्षण दिया जाने लगा.पुलिस और शिक्षक के साथ ही अन्य सरकारी विभाग में महिलाओं को 37 फीसदी आरक्षण दिया गया है. बिहार में 25 हजार से ज्यादा महिलाएं पुलिस विभाग में हैं और इतनी संख्या में पुलिस विभाग में महिलाएं किसी भी राज्य में नहीं हैं.

साईकिल योजना की चर्चा करते हुए नीतीश ने कहा कि जब उन्होने स्कूली छात्राओं को साईकिल दी तो इसकी चर्चा देश के साथ विदेशों में भी हुई और कई देश के प्रतिनिधि इस योजना को देखने बिहार आए थे. इस योजना ने राज्य की बेटियों को मानसिक रूप से मजबूत बनाया. दहेज प्रथा और बाल विवाह उन्मूलन के लिए 2 अक्टूबर 2017 के पटना के बापू सभागार में अभियान की शुरूआत की थी. कानून होने के बावजूद ये दोनो कुरीति लगातार जारी है. इसलिए इसके खिलाफ वे लगातार अभियान चला रहें हैं. दहेज लेने वाले परिवार का सार्वजनिक रूप से बहिष्कार होना चाहिए.बाल विवाह के खिलाफ भी अलर्ट होने की जरूरत है क्योंकि बाल विवाह की वजह से नाबलिग बेटी का जीवन बर्बाद हो जाती है.

सीएम नीतीश ने नीरा की तारीफ करते हुए कहा कि ताड़ी पीने वाले सुबह सुबह नीरा का सेवन करें तो यह आपके शरीर को फायदा पहुंचाएगा. नीरा को बढावा देने के लिए सरकार कई कदम उठा रही है. नीरा का उत्पादन करने के साथ ही इसका व्यापार करने वाले को भी आर्थिक रूप से प्रोत्साहित किया जाएगा.