चुनाव में राजनीतिक दलों ने प्रचार के लिए फेसबुक पेज का किया इस्तेमाल, सोशल मीडिया के खर्च में कांग्रेस ने मारी बाजी

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार विधानसभा चुनाव की बस अब काउंटिंग बच गई है. मंगलवार की सुबह वह भी शुरू हो जाएगी. कोरोना संकट के कारण इस बार सोशल मीडिया पर भी राजनीतिक दल छाए हुए थे. अब इस पर किए गए खर्च का भी डेटा आने लगा है. खासकर फेसबुक पर प्रचार को लेकर किये गये खर्च में कांग्रेस ने बाजी मारी है. मिल रही जानकारी के अनुसार, कांग्रेस ने 61 लाख 50 हजार रुपये केवल फेसबुक पर विज्ञापन देने के लिए खर्च किये. फेसबुक लाइब्रेरी के आंकड़े बताते हैं कि इतने पैसे पार्टी की ओर से केवल छह अक्टूबर से आठ नवंबर के बीच खर्च किये गये हैं.

दरअसल, कोरोना संकट के कारण इस बार तीन चरणों में बिहार विधानसभा चुनाव का आयोजन किया गया था. प्रचार के लिए भले इस चुनाव में समय सीमा कम थी, लेकिन पार्टियों ने अपनी ओर से कोई कसर नहीं छोड़ी थी. जनता को अपने पक्ष में रिझाने के लिए जी-जान से जुट गए थे. इंटरनेट मीडिया की महत्ता को समझते हुए राजनीतिक दलों ने ठीक-ठाक खर्च किए.



बताया जाता है कि कांग्रेस के अलावा बीजेपी ने फेसबुक के लिए कांग्रेस से आधे से भी कम पैसे खर्च किये. आंकड़े बताते हैं कि बीजेपी को बिहार फेसबुक पेज के माध्यम से वोटरों को अपने फेवर में करने के लिए 26.90 लाख रुपये खर्च करना पड़ा. वहीं एनडीए की सहयोगी घटक दल जदयू ने 24.10 लाख रुपये खर्च किये.

चिराग ने खर्च किये 14 लाख

जानकारी के अनुसार, फेसबुक के माध्यम से जनता तक अपनी बातों को पहुंचाने में लोजपा भी पीछे नहीं रही. फेसबुक सोर्सेज के अनुसार, लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने 14.50 लाख रुपये खर्च किये.