वैशाली के महनार में सीएम नीतीश ने की चुनावी सभा, एनडीए प्रत्याशी उमेश कुशवाहा के लिए मांगा वोट

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : वैशाली जिला के महनार विधानसभा क्षेत्र में पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में नीतीश कुमार ने चुनावी सभा की. इस दौरान उन्होंने एनडीए प्रत्याशी उमेश कुशवाहा को जीताने की अपील की. साथ ही सरकार की उपलब्धियों को गिनाते हुए विपक्ष पर जमकर हमला बोला.

उन्होंने कहा कि जब पति-पत्नी को काम करने का मौका मिला तो उन लोगों ने कोई काम नहीं किया. लेकिन जब हमलोग सरकार में आए तो महिला, युवा, अल्पसंख्यक, पिछड़ा, अति पिछड़ा समाज के विकास के लिए काम किया.



पंचायती राज संस्थाओं और नगर निकायों में महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण दिया गया. सरकारी सेवाओं में महिलाओं को 35 फीसदी आरक्षण दिया गया. सड़क, शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में विकास का काम किया गया.

पहले अपराध चरम पर था. लेकिन हम लोगों ने सबसे पहले अपराध पर नियंत्रण करने का काम किया. आज अपराध के मामले  बिहार 23वें स्थान पर है. विकास का दर 12.8 प्रतिशत है. प्रति व्यक्ति आय में 10.5 फीसदी है.

तेजस्वी के 10 लाख सरकारी नौकरी के घोषणा पर पलटवार करते हुए नीतीश कुमार ने  कहा कि ऐसी बेतुके दावों में कोई सच्चाई नहीं है. उन्होंने कहा कि जब झारखंड और बिहार एक था उस समय उन लोगों ने कुल 95 हजार नौकरी दिया था. 15 साल के शासनकाल में मात्र 95 हजार नौकरी दिया था उनलोगों ने. आज 10 लाख सरकारी नौकरी देने की बात करता हैं लोग.

नीतीश कुमार ने  तेजस्वी का नाम लिए बगैर कड़ा प्रहार करते हुए कहा कि  हम कभी छुट्टी पर नहीं जाते हैं, भागकर कहीं और नहीं जाते हैं. हम किसी चीज का एलान करते रहे हैं तो उसका अध्ययन करते हैं, जमीन पर जाकर उन चीजों पर बारीकी से देखते हैं. उन्होंने कहा कि  लोक शिकायत निवारण कानून बनाने के बाद स्पॉट पर  जाकर हमने जांच की. सिंचाई, शिक्षा और स्वास्थ्य की योजनाओं को जमीन पर जाकर देखता रहा हूं.

उन्होंने कहा कि कुछ लोग बिना सेवा मेवा के फिराक में है, 18 महीने में ही हमकों उनलोगों से अलग होना पड़ा. हमने कहां आप पर जो आरोप लगा है उसको एक्सप्लेन करिए, लेकिन नहीं कर पाए. थाना- फाड़ी सभी जगह गड़बड़ करना शुरू कर दिया. 18 महीने में अपना पुराना रूप दिखाने लगे लोग. अंत में मैंने उनका साथ छोड़ना ज्यादा मुनासिब समझा.

जब से काम करने का मौका मिला है तब से हम लोग काम कर रहे हैं. हर जिला में शिक्षण संस्थान की स्थापना की गयी. वैशाली में मेडिकल कॉलेज की स्थापना की गयी. युवाओं के लिए स्टुडेंट क्रेडिट कार्ड योजना, स्वयं सहायता भत्ता योजना, कुशल युवा कार्यक्रम चलाया गया.

पहले लालटेन का युग चल रहा था, गांव की बात छोडिए शहर में स्थिति काफी खराब थी. लेकिन हम लोगों ने स्थिति में सुधार किया. अब खेती के लिए बिजली लोग लेने लगे हैं. जर्जर तार को बदला गया. पहले 700 मेगावाट बिजली खपत होती थी, आज 6000 मेगावाट बिजली की खपत हो रही है.

किसी को अनुभव नहीं किसी को ज्ञान हीं. किसी को चिंता हैं ,8-8,9-9 बच्चा पैदा करते रहता है, बेटियों पर भरोसा नहीं 7-7 बच्चा के बाद बेटा जन्म लिया. ये लोग बिहार का विकास करने की बात करता है.

कुछ लोगों के मन में बायां-दायां करने की बात है, उनकी मैं चिंता नहीं करता हूं. नई पीढ़ी के लोगों को पहले और आज के बारे में जानकारी देनी होगी. उन्हें बताना होगा पहले क्या था, कैसे लोग शाम होते ही घर से बाहर नहीं निकलते थे. लेकिन आज बिना भय लोग कहीं भी आ जा रहे हैं.  

हर घर नल का जल, पक्की नाली गली का निर्माण का कार्य करीब-करीब पूरा हो गया है. दूर दराज के इलाके से राजधानी पटना आने में 6 घंटा से ज्यादा समय ना लगे इस वादे को हमने पूरा किया. अब इसको घटाकर 5 घंटा कर दिया गया है.

आगे मौका मिला तो हर गांव में सोलर स्ट्रीट लाइट लगायी जाएगी. हर खेत तक पानी पहुंचाया जाएगा. 8-10 पंचायत पर एक पशु अस्पताल खोला जाएगा. पशुओं की दवा मुफ्त दी जाएगी. शहर और बाजार के पास बाइपास बनाया जाएगा. जहां जमीन नहीं उपलब्ध होगा वहां सड़क के ऊपर सड़क बनाया जाएगा. हर जिला में मेगा स्कील सेंटर खोला जाएगा.