बिहार के 5 मजदूरों को सऊदी में बनाया बंधक, BRK कंस्ट्रक्शन कंपनी ने किया था हायर

लाइव सिटीज डेस्कः विदेशों में बेहतर भविष्य की सोच लिए घर छोड़ कर गए गोपालगंज के पांच मजदूरों को सऊदी में बंधक बनाया गया है. इतना ही नहीं बिहार और यूपी के 18 मजदूरों को को भी बंधक बनाया गया है. अब इन लोगों के सामने खाने पीने के साथ आर्थिक समस्या भी उत्पन्न हो गई है.

इधर इस बात की जानकारी जैसे ही सभी मजदूरों के परिजनों को हुई है उनका रो रो कर बुरा हाल है. बंधक बनाए गए मजदूरों ने एक वीडियो सोशल मीडिया में जारी किया है. जिसमें वे अपनी स्थिति को जाहिर कर रहे हैं.

सभी 18 मजदूरों को बीआरके कंस्ट्रक्शन कंपनी यूपी के किसी एजेंट द्वारा भेजा गया था. सभी मजदूर एक माह पूर्व कंपनी में पहुंच कर योगदान भी दे दिया. लेकिन चार दिनों तक काम करने के बाद कंपनी ने इन्हें कार्यमुक्त कर दिया. इसके बाद से जब इन्होंने अपने कार्य के बदले रुपये मांगे तो उन्हें लगातार काम करने के लिए कहा और रुपये भी नहीं दिए. ऐसे में वे परेशान हैं और वीडियों के माध्यम से अपबीती शेयर कर रहे हैं.

मीरगंज थाना क्षेत्र के बड़कागांव में रहने वाले दिलीप तिवारी का भी यही हाल है. कुवैत में काम रहे दिलीप तिवारी को पिछले आठ महीने से पगार नहीं मिली है. जिस कारण वे वहां आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं. वहीं इनका परिवार भी वरीय अधिकारियों के पास बेटे की वापसी की गुहार लगा चुका है.

बताते चले कि दिलीप तिवारी 2008 से ही इस कंपनी में कार्यरत हैं. लेकिन अगस्त 2015 में पुन कुवैत जाने के करीब पंद्रह महीने बाद से ही कंपनी ने उन्हें तनख्वाह देनी बंद कर दी. इधर दिलीप तिवारी की पत्नी नीधू देवी को भी रो रो कर बुरा हाल है. बता दे कि दिलीप तिवारी के साथ भारत के करीब 800 मजदूर फंसे हुए हैं.

यह भी पढ़ें-

करवाचौथ पर Lover को दें Princess Cut Diamond, चांद बिहारी ज्वैलर्स लाए हैं नया कलेक्शन
स्मार्ट बनिए आ रही DIWALI में, अपने Love Bird को दीजिए Diamond Jewelry
अभी फैशन में है Indo-Western लुक की जूलरी, नया कलेक्शन लाए हैं चांद बिहारी ज्वैलर्स
PUJA का सबसे HOT OFFER, यहां कुछ भी खरीदें, मुफ्त में मिलेगा GOLD COIN
RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स में, प्राइस 8000 से शुरू
चांद बिहारी अग्रवाल : कभी बेचते थे पकौड़े, आज इनकी जूलरी पर है बिहार को भरोसा

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)