ऑनलाइन रेल टिकट पर बीमा कंपनियों ने कमाए 37.14 करोड़, खर्च हुए सिर्फ 4.34 करोड़

लाइव सिटीज डेस्क : रेलवे से सफ़र करने वाले सभी यात्रियों के लिए यह खबर जानना जरूरी है. आप जब भी ऑनलाइन रेल टिकट बुक करते हैं तो उसके साथ आपका दुर्घटना बीमा भी साथ कर लिया जाता है. बीते 2 वित्तीय वर्षों में यात्रा बीमा के जरिये इंश्योरेंस कंपनियों ने करीब 37.14 करोड़ रूपये प्रीमियम कमाए. इन दो वित्तीय वर्षों में करीब 43.57 करोड़ लोगों ने ऑनलाइन रेल टिकट बुक किया. हालांकि, इन कंपनियों ने इस अवधि में केवल 48 बीमा दावा प्रकरण स्वीकृत किये जिनमें संबंधित लोगों को 4.34 करोड़ रुपये का मुआवजा अदा किया गया. यह खुलासा RTI के जरिये हुआ है.

मध्य प्रदेश के सामाजिक कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने इस मामले में RTI की अर्जी डाली थी. जिसके जवाब आने पर आज “पीटीआई-भाषा” को उन्होंने जानकारी दी. गौड़ ने बताया कि इंडियन रेलवे कैटंिरग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन (आईआरसीटीसी) के एक संयुक्त महाप्रबंधक ने उन्हें आरटीआई के तहत यह जानकारी दी है. गौड़ की आरटीआई अर्जी पर भेजे गये जवाब में बताया गया कि वित्तीय वर्ष 2016-17 से वित्तीय वर्ष 2017-18 के बीच ई-टिकट बुक कराने वाले 43.57 करोड़ रेल मुसाफिरों को यात्रा बीमा योजना के तहत कवर प्रदान किया गया.

इस अवधि में योजना के तहत आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस को 12.40 करोड़ रुपये, रॉयल सुंदरम जनरल इंश्योरेंस को 12.36 करोड़ रुपये और श्रीराम जनरल इंश्योरेंस को 12.38 करोड़ रुपये का प्रीमियम भुगतान किया गया. आरटीआई से पता चलता है कि आलोच्य अवधि में यात्रा बीमा योजना के तहत तीनों कंपनियों को कुल 155 बीमा दावे प्राप्त हुए. इनमें से 48 बीमा दावे मंजूर करते हुए संबंधित लोगों को कुल 4.34 करोड़ रुपये के मुआवजे का भुगतान किया गया.इस अवधि में 55 बीमा दावे “बंद” कर दिये गये, जबकि 52 अन्य बीमा दावों पर फिलहाल विचार किया जा रहा है.

आरटीआई से यह जानकारी भी सामने आई है कि आॅनलाइन रेलवे टिकटों पर यात्रा बीमा योजना एक सितंबर 2016 से शुरू की गयी थी. इसके बाद 10 दिसंबर 2016 से आॅनलाइन टिकट बुक कराने वाले सभी रेल यात्रियों के लिये इसे मुफ्त किया जा चुका है. यानी तब से इस योजना के प्रीमियम का भुगतान सरकारी खजाने से किया जा रहा है.

रेल टिकट गुम हो जाने पर भी ट्रेन में कर सकते हैं सफर, जानें रेलवे के 7 ऐसे नियम

फिलहाल आॅनलाइन टिकट बुक कराने वाले हर व्यक्ति के यात्रा बीमा (प्रति व्यक्ति प्रति ट्रिप) के बदले संबंधित कंपनी को 68 पैसे का प्रीमियम सरकार की ओर से चुकाया जा रहा है. बीमित व्यक्ति के रेल यात्रा के दौरान किसी दुर्घटना में हताहत होने पर इस योजना के तहत अधिकतम 10 लाख रुपये के मुआवजे के भुगतान का प्रावधान है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*