सोमवार को फिर हो सकता है साइबर अटैक, IT एक्सपर्ट्स ने दी है चेतावनी

cyber-attck

लाइव सिटीज डेस्क: रविवार को तमाम बड़ी कंपनियों के आई पेशेवर वायरस और मालवेयर से तबाह हुए कंप्यूटरों का डाटा रीस्टोर करने और बाकी सिस्टम को सुरक्षा के लिहाज से चुस्त—दुरुस्त बनाने में जुटे रहे. दरअसल, कंपनियों और संस्थानों को डर है कि सोमवार को भी कंप्यूटर खोलने पर फिर से रैनसमवेअर का हमला न हो जाए. उस रेनसमवेअर ने जिसने कार फैक्ट्रियों, अस्पतालों, दुकानों और स्कूलों की गतिविधियों पर अचानक ब्रेक लगा कर दुनियाभर में तहलका मचा दिया था.

रैनसमवेअर की चपेट में आईं बड़ी कंपनियां

खासकर एशियाई देशों में सोमवार को कंप्यूटर खोले जाएंगे और इस लिहाज से वहां कल का दिन बेहद व्यस्त रहने वाला है जहां शायद अभी सबसे बुरा देखने को नहीं मिला है. सिंगापुर के एक सिक्यॉरिटी रिसर्चर क्रिस्चियन क्रम ने कहा, ‘इसके बारे में कल (सोमवार) सुबह बहुत कुछ सुनने को मिलेगा जब यूजर्स दफ्तर आएंगे और शायद फिशिंग ईमेल्स के शिकार बन जाएंगे. हो सकता है उन्हें कुछ और ही परिस्थिति का सामना करना पड़े.’

cyber-attck

साइबर सिक्यॉरिटी एक्सपर्ट्स की मानें तो 1 लाख से ज्यादा कंप्यूटरों को लॉक कर देनेवाले वानाक्राइ नाम के रैनसमवेअर के फैलने की गति थोड़ी थमी तो है, लेकिन इससे बहुत कम वक्त तक राहत मिल सकती है. एक्सपर्ट्स की चेतावनी है कि रैनसमवेअर के नए वर्जन आ सकते हैं. शुक्रवार के हमले में कितना नुकसान हुआ, इसका अब तक सही-सही अंदाजा नहीं लगाया जा सका है.

प्राइस वॉटर हाउस कूपर्स में साइबर सिक्यॉरिटी पार्टनर मैरिन इवेजिक ने कहा कि हमले की बात सामने आने के बाद से ही क्लाइंट्स सिस्टम्स को रीस्टोर करने और सॉफ्टवेयर अपडेट करने में दिन-रात जुटे हैं. माइक्रोसॉफ्ट ने पिछले महीने ही पैचेज रिलीज किए थे. उसने शुक्रवार को भी इसे जारी किया ताकि उस गड़बड़ी को दुरुस्त किया जा सके जिसकी वजह से पूरे नेटवर्क में वॉम फैल जाता है. यह वॉम दुर्लभ और ताकतवर है जिसने शुक्रवार को पूरी दुनिया में कोहराम मचा दिया.

यह भी पढ़ें :

पटना में साइबर अटैक : व्यवसायी का कंप्यूटर हैक कर डाटा ब्लाक किया, बदले में मांगे 3 करोड़

100 देशों में सायबर अटैक, अरबों कम्प्यूटर ठप