पेट्रोल-डीजल को अभी जीएसटी दायरे में लाना ठीक नहीं, 4.10 लाख करोड़ की होगी राजस्व हानि- सुशील कुमार मोदी

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: पेट्रोल-डीजल को अभी जीएसटी दायरे में लाना ठीक नहीं है. यह बात पूर्व उपमुख्यमंत्री व बीजेपी सांसद सुशील कुमार मोदी ने कहा है. उन्होंने ट्विट कर लिखा है कि बिहार सहित अन्य राज्यों को राजस्व की वर्तमान परिस्थिति को देखते हुए पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने के विचार का विरोध करना चाहिए. जीएसटी परिषद जब इस मुद्दे पर केरल हाई कोर्ट के निर्देश पर विचार करने वाली है, तब राज्यों को अपनी बात मजबूती से रखनी चाहिए.

यदि पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाया गया, तो इन वस्तुओं पर कर 75 से घटाकर 28 फीसद करना पड़ेगा. इससे केन्द्र और राज्य सरकारों को 4.10 लाख करोड़ के राजस्व से वंचित होना पड़ेगा. इसमें डीजल से 1.10 लाख करोड़ और पेट्रोल से 3 लाख करोड़ की राजस्व हानि होगी. कोविड काल में सरकार इतनी बड़ी राशि की भरपाई नहीं कर पाएगी, जिससे विकास कार्य प्रभावित होंगे. 

अपने अगले ट्वीट में उन्होंने लिखा कि 60 करोड़ लोगों के टीकाकरण, 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन और अर्थव्यवस्था को कुछ बड़े राहत पैकेज देने जैसे फैसलों से राजस्व संसाधन पर जो दबाव बढा, उसे ध्यान में रखते हुए पेट्रोल-डीजल को जीएसटी दायरे में लाने का विचार टालना ही उचित होगा. विपक्ष इस मुद्दे पर केवल राजनीतिक बयानबाजी कर रहा है.

वहीं उन्होंने पीएम मोदी को जन्मदिन पर बधाई देते हुए लिखा कि देश की सेवा को अहर्निश समर्पित प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 71वें जन्मदिन पर उन्हें हार्दिक शुभकामनाएँ. वे यशस्वी शासन प्रमुख के रूप में अपने 20 वर्ष भी पूरे कर हैं. इसे भाजपा सेवा-समर्पण सप्ताह के रूप में मना रही है. बिहार सरकार ने प्रधानमंत्री के जन्मदिन पर 30 लाख लोगों के टीकाकरण से रिकार्ड बनाने का जो लक्ष्य रखा है, उसे पूरा करने में सबको सहयोग करना चाहिए.