सीट बंटवारे को लेकर अब जेडीयू और बीजेपी के बीच तल्खी, NDA में ऑल इज नॉट वेल

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: ऊपर- ऊपर से भले ही एनडीए कहती हो कि ऑल इज वेल लेकिन अंदरखाने में फूट पड़ी हुई है. एक तरफ जहां एलजेपी के चिराग पासवान ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है तो वहीं दूसरी तरफ अब बीजेपी ने भी अपना तेवर दिखाना शुरू कर दिया है. मतलब साफ़ है कि एनडीए में कुछ भी ऑल इज वेल नहीं है.

एनडीए में रहने के बावजूद बीजेपी और जेडीयू में अब तक आपस में ही सीटों को लेकर तालमेल सेट नहीं हो पाया है. दरअसल, जेडीयू ने जिन सीटों को लेकर अपनी मांग उठायी थी, उन सीटों को बीजेपी ने खारिज कर दिया है. ऐसे में अब देखने वाली बात यह होती है कि क्या एनडीए में टूट होने जा रही है? या इस मसले को सुलझाने में एनडीए को जीत हासिल होगी.



इधर, बिहार बीजेपी प्रभारी भूपेंद्र यादव और चुनाव प्रभारी देवेंद्र फडणवीस दो दिनों तक पटना में रहे और लगातार बैठक करते रहे लेकिन इन दोनों नेताओं की मुलाकात नीतीश कुमार से नहीं हो सकी. यह बात कई तरह के सवाल खड़े कर देने वाली है कि आखिर नीतीश कुमार ने पटना में ही होते हुए इन लोगों से मुलाक़ात क्यों नहीं की. जानकार बता रहे कि अंदर ही अंदर जेडीयू और बीजेपी के बीच तल्खी बहुत बढ़ी हुई है. क्योंकि जेडीयू पिछली बार यानी 2010 की तरह इस बार भी बीजेपी पर दबाव बनाने की कोशिश में जुटी है. जदयू, बीजेपी की कई परंपरागत सीटें मांग रही है जिसे देने को बीजेपी तैयार नहीं है. ऐसी 15 सीटें हैं जिसपर जदयू अपनी दावेदारी पेश कर रही लेकिन बीजेपी किसी कीमत पर जदयू के दबाव में नहीं आ रही.

इसी सिलसिले में बिहार बीजेपी प्रभारी भूपेंद्र यादव और चुनाव प्रभारी देवेंद्र फडणवीस ख़ास नीतीश कुमार से मुलाक़ात कर इसी बात को साफ़ करने पटना में दो दिन रुके भी लेकिन इसके बावजूद सीएम ने किसी से मुलाक़ात नहीं की. बहरहाल अब ये तोवक़्त ही बताएगा कि जेडीयू और बीजेपी के मन में कौन सी खिचड़ी पक रही है.