गलतफहमी ना पाले जेडीयू, हमने तोड़ा नहीं वो खुद ब खुद आएं है…अरूणाचल बीजेपी के इस नेता ने कर दिया क्लीयर

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : अरूणाचल जेडीयू विधायकों के बीजेपी में शामिल होने पर बिहार एनडीए में बहुत उथल पुथल मचा हुआ है. जेडीयू लगातार इस मुद्दे को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर कर रहा है. पार्टी के नेता अब खुलकर कहने लगे हैं कि बीजेपी का यह काम दोस्ताना नहीं है. इस प्रकार की हरकत गठबंधन धर्म के बिल्कुल खिलाफ है. ऐसी हरकत को किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

जिस मुद्दे को लेकर जेडीयू इतना गरम है, उसपर बीजेपी ने सफाई दिया है. अरूणाचल बीजेपी के मीडिया प्रभारी और प्रदेश सचिव तादर निगलर जी ने साफ कर दिया कि हमलोगों ने जेडीयू के विधायकों को तोड़ा नहीं बल्कि वो लोग खुद-ब-खुद अरूणाचल सीएम प्रेमा खांडू के कामों से प्रभावित होकर आएं हैं. बीजेपी ने किसी को ना तो तोड़ा है और ना ही बुलाया है. मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कामों से प्रभावित होकर जेडीयू के विधायक बीजेपी में शामिल हुए है.



इधर अरूणाचल के जेडीयू विधायकों के बीजेपी में शामिल होने का असर बिहार में दिखने लगा है. कहने को तो एनडीए के दोनों बड़े घटक दल बीजेपी और जेडीयू ऑल इज वेल कह रही है, लेकिन वास्तव में दोनों के बीच अंदरूनी कलह अब धीरे-धीरे खुलकर सामने आने लगा है. पार्टी नेताओं के बयान ऑल इज वेल की ओर संकेत नहीं कर रहे हैं.

विपक्ष इस मसले को लेकर खूब चुटकी ले रहा है. पहले आरजेडी ने जेडीयू पर कटाक्ष करते हुए कहा कि बीजेपी अब धीरे-धीरे जेडीयू को निगल जाएगी. ऐसे ही जेडीयू का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा.दोनों की दलों के बीच आपसी कलह सामने आने लगी है. यह सरकार ज्यादा दिनों तक नहीं चलने वाली है. 2021 में चुनाव होने की प्रबल संभावना है.

एक तरफ आरजेडी अरूणाचल के मुद्दे पर जेडीयू पर तंज कस रहा है. तो उसका सहयोगी कांग्रेस नीतीश पर डोरे डालने लगा है. कांग्रेस विधायक दल के नेता अजित शर्मा ने नीतीश कुमार को सलाह देते हुए कहा कि वो हमारे साथ आएं, पहले भी वो हमारे साथ थे, अब भी उनका स्वागत है. बता दें कि ये बातें अजित शर्मा ने कांग्रेस का स्थापना दिवस के मौके पर कहीं है.