एग्जिट पोल पर जेडीयू को विश्वास नहीं, डॉक्टर सुनील ने सर्वे के रूझान को सिरे से नकारा…

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार चुनाव के तीसरे चरण के मतदान समाप्ति के बाद तमाम एग्जिट पोल में महागठबंधन की सरकार बनती दिख रही है. सभी संस्थानों के एग्जिट पोल सर्वे में महागठबंधन को बढ़त और एनडीए को हानी की बात समाने आ रही है. यहां तक की महागठबंधन को पूर्ण बहुमत मिलता दिखाया जा रहा है. टुडे चाणक्या की सर्वे में महागठबंधन को 180+ सीटें दी गयी है, जबकि एनडीए को 55+ दिया गया गया है.

इधर जेडीयू और बीजेपी ने एग्जिट पोल को सिरे से नकार दिया है. पार्टी नेता डॉक्टर सुनील कुमार ने लाइव सिटीज से बात करने के दौरान कहा कि तमाम एग्जिट पोल का सैंपल आकार काफी छोटा है. कुछ लोगों की राय के आधार पर एग्जिट पोल तैयार किया गया है. जिसे कहीं से सही नहीं ठहराया जा सकता है.



डॉक्टर सुनील ने 2015 के चुनावी रूझान का जिक्र करते हुए कहा कि उस दौरान भी सभी एग्जिट पोल में बीजेपी को बढ़त दिखाया गया था. लेकिन काउंटिंग में तमाम एग्जिट पोल की हवा निकल गयी. राजनीतिक पंडितों के कयासों के विपरीत रिजल्ट आए. नीतीश कुमार के नेतृत्व में महागठबंधन की सरकार बनी.

उन्होंने कहा कि जेडीयू का वोटर साइलेंट होता है. वो मुखर होकर बोलता नहीं है. वो सीधे अपने घरों से निकलकर बूथ पर जाता है और चुप चाप तीर छाप पर मुहर लगाकर वापस घर चला आता है. वो महागठबंधन के वोटरों की तरह चिल्लाता नहीं है. ऐसे में साइलेंट वोटर्स का वोट काउंटिंग के दिन ही पता चल पाता है.

वहीं सुनील कुमार ने महागठबंधन खेमा में खुशी पर कहा कि समय से पहले ज्यादा खुश होना अच्छी बात नहीं होती. 2015 के चुनाव रिजल्ट के दिन पहले चरण के काउंटिंग में बीजेपी को बढ़त मिल रही थी, ऐसे में तमाम कार्यकर्ता खुशी मनाने लगे, लेकिन दूसरे ही पल उनकी खुशी धड़ाम से गिर गयी.   

बता दें कि एग्जिट पोल के रूझान से महागठबंधन खेमा में खुशी की लहर है. आरजेडी, कांग्रेस, सीपीआई, सीपीआईएम और सीपीआईएमएल के नेताओं ने संयुक्त रूप से प्रेस कांफ्रेंस कर अपनी खुशी जाहिर की है. साथ ही जनता से किए वादे को हर हाल में पूरा करने की बात कही है. आज आरजेडी पार्टी कार्यालय के बाहर कार्यकर्ताओं में एक दूसरे क अबीर गुलाल लगाया. साथ ही एक दूसरे को मिठाइया खिलाकर खुशी का इजहार किया.