कई सीटिंग विधायकों का पत्ता काटने जा रही है जेडीयू, कोर ग्रुप की बैठक में सीएम नीतीश ने लिया फैसला

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार विधानसभा चुनाव के तारीखों का एलान होते ही पॉलिटिकल कॉरिडोर में हलचल तेज हो गयी. हर किसी ने इस चुनाव को जीतने के लिए अपनी ताकत झोंक दी है. इसी कड़ी में जहां महागठबंधन का दामन छोड़ कुशवाहा आज विधानसभा चुनाव को लेकर अपनी रणनीति का खुलासा करेंगे, वहीं जेडीयू भी अपने स्तर पर उम्मीदवारी को फाइनल करने में व्यस्त है. दरअसल, इस बार चुनाव में सीएम नीतीश कुमार ने खुद ही मोर्चा संभाल लिया है.

इसको लेकर मुख्यमंत्री और जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार पहली बार उम्मीदवारी को लेकर दावेदारों के साथ वन टू वन मीटिंग करते नज़र आए हैं और अब उन्होंने पार्टी के कोर ग्रुप के नेताओं के साथ मैराथन बैठक भी की है. मुख्यमंत्री आवास पर सोमावर को देर शाम जेडीयू के कोर ग्रुप के नेताओं की बैठक हुई है. जिसमें पार्टी के दिग्गज नेताओं के साथ सीटों और उम्मीदवारों को लेकर चर्चा हुई है.



इस मीटिंग में नीतीश कुमार के साथ ललन सिंह, आरसीपी सिंह समेत अन्य नेता भी मौजूद रहे. हालांकि इस बैठक में इस बात की भी चर्चा हुई है कि पार्टी अपने सीटिंग उम्मीदवारों का पत्ता काट सकती है. सीटिंग उम्मीदवारों से जनता वैसे भी नाराज है, ऐसे में मुख्यमंत्री कोई रिस्क नहीं लेना चाहते हैं. जिन विधायकों का टिकट कटने की उम्मीद है उस में पहली बार 2015  में विधायक बनने वाले से लेकर पूर्व मंत्री तक के शामिल हैं. मौजूदा विधानसभा चुनाव नीतीश कुमार के लिए एक बड़ी चुनौती है ऐसे में वह स्थानीय नाराजगी को नजरअंदाज कर किसी विधायक को टिकट नहीं देना चाहते.

आपको बता दें कि नीतीश कुमार ने इसको लेकर एक हफ्ते पहले से ही तैयारी शुरू कर दी है. उन्होंने खुद जेडीयू कार्यालय पहुंचकर मीटिंग की है और सीटिंग कैंडिडेट्स को लेकर बड़ा फैसला कर लिया है.