प्रशांत किशोर बक्सर से नहीं लड़ेंगे लोक सभा चुनाव, अभी JDU को बहुत आगे ले जाना है

प्रशांत किशोर, चुनावी रणनीतिकार, बिहार, नीतीश कुमार, राजनीतिक पार्टी, बीजेपी, कांग्रेस, prashant kishor, nitish kumar, rahul gandhi, narendra modi

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क़ : प्रशांत किशोर के जदयू में आते ही यह शोर मच गया कि वे 2019 में बक्सर से लोक सभा का चुनाव लड़ेंगे . प्रशांत मूल रुप से बक्सर के ही रहने वाले हैं . इस शोर ने बक्सर के मौजूदा सांसद और केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे की नींद उड़ा दी . लेकिन, अब प्रशांत किशोर को जानने वालों ने स्पष्ट कर दिया है कि वे जदयू में तुरंत के तुरंत बक्सर से लोक सभा चुनाव लड़ने को शामिल नहीं हुए हैं . उनके लक्ष्य बड़े हैं .

नीतीश कुमार ने भी प्रशांत किशोर को जदयू में शामिल कराते वक्त ‘भविष्य‘ कहा था . समझ सकते हैं, प्रशांत किशोर को लेकर नीतीश कुमार ने मन-मस्तिष्क में क्या प्लान कर रखा है . सीधे तौर पर दिखने भी लगा है . नीतीश कुमार सीट शेयरिंग को लेकर भाजपा के नेशनल प्रेसिडेंट अमित शाह से बात करने लगे हैं . जदयू में अचानक आए प्रशांत किशोर को मिले इतने बड़े कद को लेकर कई पुराने नेता परेशान भी हैं .

जदयू के लिए बंद रास्ते खोलेंगे प्रशांत किशोर

दिल्लीे के नवभारत टाइम्स के वरिष्ठ पत्रकार नरेंद्र नाथ कहते हैं – प्रशांत किशोर से हुई बातचीत से स्पष्ट है कि वे 2019 में खुद चुनाव लड़ने के मूड में नहीं हैं . प्रशांत किशोर की पोलिटिकल इंट्री को बड़े कैनवास पर देखा जाना चाहिए . वे सफल पोल स्ट्रेटिजिस्ट हैं .

बकौल नरेंद्र नाथ प्रशांत किशोर के आते ही जदयू को सभी पार्टियों में पहुंच रखने वाला वार्ताकार मिल गया है . नीतीश कुमार ने लोक सभा चुनाव में बड़े भाई की भूमिका में रहने का एलान कर दिया है . समझने की जरुरत है कि महागठबंधन से अलग होने के बाद नीतीश कुमार ने एनडीए के साथ जाकर सरकार बनाई, तब उनके पास दूसरे विकल्प कम हो गए थे . अब प्रशांत किशोर जरुरत पड़ने पर फिर से खोलने की क्षमता रखते हैं .

अश्विनी चौबे को टिकट, आर के सिंह वेटिंग में

बिहार के सीनियर जर्नलिस्ट कन्हैया भेलारी आजकल अपने सूत्रों के आधार पर भाजपा के संभावित उम्मीदवारों की सूची जारी कर रहे हैं . इनमें शाहाबाद के चार लोक सभा क्षेत्रों आरा, बक्सर, काराकाट और सासाराम की भी चर्चा है . सभी एनडीए के खाते में हैं . लेकिन जानने को दिलचस्प यह है कि आरा, बक्सर और काराकाट के सांसद बाहरी हैं .

कन्हैया भेलारी का मानना है कि बक्सर से अश्विनी चौबे का टिकट कंफर्म है . लेकिन आरा से भाजपा सांसद व केंद्रीय मंत्री आर के सिंह वेटिंग लिस्ट में चले गए हैं . लाइव सिटीज से बातचीत में भेलारी कहते हैं – आर के सिंह को भाजपा चुनाव से जीतने वाले नेता के रुप में फिट नहीं मान रही है . आगे आर के सिंह को राज्यसभा में भेजा जा सकता है . आरा सीट जदयू के खाते में जा रही है . नीतीश कुमार फिर से मीना सिंह पर भरोसा करेंगे . सासाराम को लेकर भेलारी ने पहले छेदी पासवान के टिकट को भी वेटिंग लिस्ट में रखा था . लेकिन अब कैटेगरी बदलकर वेटिंग के बदले आरएसी में कर दिया गया है .

About Md. Saheb Ali 3496 Articles
Md. Saheb Ali

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*