सीट शेयरिंग को लेकर राजद-जेएमएम में नहीं बनी बात, 7 विधानसभा सीटों पर अकेले चुनाव लड़ेगी झारखंड मुक्ति मोर्चा

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर महागठबंधन में सीटों का घीचपिच चल ही रहा है. खबर आ रही है कि सीट शेयरिंग को लेकर राजद और जेएमएम में बात नहीं बनी. बिहार विधानसभा चुनाव में तेजस्वी यादव के नेतृत्व वाली महागठबंधन में सीटें नहीं मिलने से नाराज होकर जेएमएम ने अकेले चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है.

जेएमएम बिहार में 7 सीटों पर चुनाव लड़ेगी, जिसमें झाझा, चकई, कटोरिया, धमदाहा , मनिहारी, पीरपैंती और नाथनगर सीट शामिल है. परिस्थितियों के अनुसार जेएमएम आगे और सीटों पर भी चुनाव लड़ सकती है. एक संवाददाता सम्मेलन में जेएमएम के केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने आज इसकी घोषणा की है.



सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि भाजपा और जदयू को परास्त करने के लिए हमने निर्णय लिया था, महागठबंधन के तहत राजद के साथ मिलकर चुनाव लड़े, लेकिन आज का राजद नेतृत्व पुरानी दिनों को याद नहीं रखना चाहता और जेएमएम की उपस्थिति को नकारने पर तुला है. राजद द्वारा बिहार में राजनीतिक मक्कारी की गई है. जेएमएम बिहार में बिना किसी राजनीतिक खैरात के चुनाव लड़ेगी.

राजद पर हमला बोलते हुए सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि झारखण्ड में राजद की एक सीट नहीं थी पर जेएमएम ने सम्मानित सीट दिया, यही नहीं लोकसभा चुनाव में भी साथ नहीं छोड़ा.
जेएमएम लालू जी का आदर करता है. लालूजी से मैं पूछना चाहता हूं कि जेएमएम के लिए बिहार में सामाजिक न्याय है कि नहीं.

सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि जेएमएम कम सीटों पर लड़ेगा पर निर्णायक सीटों पर लड़ेगा. बिहार में बहुकोणीय मुकाबला होने जा रहा है. 2015 में मोदी जी नीतीश के डीएनए में खोट बताया था. एनडीए के घटक दलों में जो स्थिति है उसमें लोजपा-जदयू के खिलाफ चुनाव लड़ेगा पर बीजेपी के खिलाफ नहीं.