BIG NEWS : मुख्यमंत्री नीतीश से जीतनराम मांझी की हो गयी डील! इसी महीने एनडीए का साथी बनेगा ‘हम’

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : सबकुछ ठीक रहा तो इसी महीने जीतन राम मांझी की एनडीए में वापसी हो सकती है. इसके लिए पूरी तैयारी हो चुकी है. एनडीए सूत्रों के हवाले से जो खबर आ रही है उससे यही कयास लगाया जा रहा है कि पूर्व सीएम जीतन राम मांझी की एनडीए में वापसी सुनिश्चित हो चुकी है. अब बस उचित समय का इंतजार किया जा रहा हैं जब इसकी घोषणा की जा सके.

बताया जा रहा है जीतन राम मांझी और सीएम नीतीश कुमार के बीच सारी बातें तय हो चुकी है. दोनों नेताओं के बीच सीट शेयरिंग समेत विभिन्न मुद्दों पर सहमति भी बन गयी है. जेडीयू अपने कोटे से मांझी को 7 से 9 सीट दे सकता है. बताया तो यह भी जा रहा है कि जेडीयू के इस ऑफर को हम ने स्वीकार भी कर लिया है. लेकिन अभी यह सब अंदरखाने की खबर है.



जीतन राम मांझी लगातार महागठबंधन ने नाराज चल रहे थे. सीटे शेयरिंग को लेकर वो कॉ-ऑर्डिनेशन कमिटी बनाने की मांग करते रहे, लेकिन उनकी मांग को किसी ने तवज्जों नहीं दिया. इसके लिए उन्होंने 25 जून तक का अल्टीमेटम भी दिया फिर भी आरजेडी के कानों पर जू तक नहीं रेंगा. इससे खफा होकर मांझी ने पार्टी के पार्लियामेंट्री कमिटी की बैठक बुलायी. जिसमें सभी ने निर्णय लेने के लिए मांझी को अधिकृत कर दिया.

इसके बाद हम की ओर से कहा जाने लगा कि मांझी जल्द ही कोई बड़ा निर्णय कर सकते है. और उसी दौरान से ही मांझी की जेडीयू से नजदीकियां बढ़ने लगी. जिसका असर अब दिखने लगा है. हाल के दिनों में नीतीश सरकार के फैसले को मांझी समर्थन करते आ रहे है.

फरवरी 2018 में एनडीए से मांझी अलग हो गए थे. 2019 का लोकसभा चुनाव उन्होंने महागठबंधन के साथ मिलकर लड़ा था. लेकिन इस चुनाव में मांझी को कोई ज्यादा फायदा नहीं पहुंचा. इसके बाद 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव में सीट शेयरिंग को लेकर विवाद बढ़ने लगा. और महागठबंधन से मांझी की दूरिया बढ़ने लगी.

यह भी कयास लगाया जा रहा है कि चिराग पासवान इनदिनों जेडीयू से बिदुके हुए है. वो लगातार नीतीश सरकार के कार्यों पर उंगली उठा रहे है. जानकार बता रहे हैं कि चिराग पासवान के सवालों से नीतीश कुमार काफी चिढ़े हुए है. ऐसे में चिराग पासवान एनडीए से बाहर होते हैं तो दलित चेहरा के रूप में मांझी को लाया जा रहा है.