केरल में 20 हजार मकान-10 हजार किमी सड़क बर्बाद, 100 करोड़ रुपये के राहत पैकेज का एलान

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्कः बाढ़ से जूझ रहे केरल के लिए केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने 100 करोड़ रुपये के राहत पैकेज का ऐलान किया है. रविवार को उन्‍होंने बाढ़ग्रस्‍त इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया है और कहा कि राज्य में स्थिति ‘बहुत गंभीर’ है. इसके बाद गृह मंत्रालय की ओर से ट्वीट कर कहा गया कि बाढ़ से हुए नुकसान का अनुमान लगाने में समय लगेगा लेकिन इससे पहले ही 100 करोड़ रुपये के अतिरिक्‍त राहत पैकेज का ऐलान किया जाता है. सभी राजनीतिक दलों, सामाजिक और सांस्‍कृतिक संगठनों से भी राज्‍य सरकार की मदद करने की अपील की गई.

सीएम ने की सहायता राशि की मांग

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने केन्द्र से तत्कालिक राहत और पुनर्वास के लिए 820 करोड़ के अलावा 400 करोड़ रुपये की सहायता राशि की मांग की है. साथ ही उन्होंने केन्द्र की टीम को पिछले हफ्ते हुए नुकसान का जायजा लेने दोबारा भेजने की अपील की है. सीएम ने केन्द्र से चार हफ्तों के अंदर स्पेशल पैकेज दिए जाने की भी मांग की है. इसके लिए राज्य सरकार विस्तृत प्रस्ताव प्रस्तुत करेगी.

20 हजार मकान क्षतिग्रस्त

शुरुआती आकलन के मुताबिक करीब 20 हजार मकान और राज्य की करीब 10 हजार किमी लंबी सड़कें पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुकी हैं. 8316 करोड़ के नुकसान का अंदाज लगाया जा रहा है. बता दें कि भारी बारिश और बाढ़ से इस महीने की 9 और 12 तारीख को 37 लोगों की मौत हो गई और 5 लोग अब तक लापता हैं. इस आपदा में अब तक 186 जान जा चुकी है. इससे प्रभावित करीब 10 हजार लोग राहत शिवरों में भेजे जा चुके हैं. इस आपदा का असर काफी लंबे वक्त तक रहेगा.

पिनाराई ने जानकारी दी कि वे नुकसान का आकलन का काम पूरा होते ही जल्द एक विस्तृत ज्ञापन सौपेंगे. राज्य सरकार ने केन्द्र सरकार से इस आपदा को विरल और क्रूर घोषित करते हुए जरूरी राशि और मदद प्रदान करने का भी आग्रह किया है. पिनाराई ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह का केरल के बाढ़ प्रभावितों इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करने के लिए आभार प्रकट किया.

केरल में बारिश ने तबाह कर दिया

केरल में मूसलाधार बारिश और बाढ़ के चलते बेहद बदतर हालात के मद्देनजर रविवार को केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने केरल के दो बाढ़ प्रभावित जिलों का हवाई सर्वेक्षण किया. इसके बाद उन्होंने 100 करोड़ रुपये की अतिरिक्त सहायता राशि भी जल्द जारी करने की घोषणा की. बता दें कि केरल 1924 के बाद दूसरी बार सबसे भयानक बाढ़ के दौर से गुजरना पड़ा है. उसके 14 में से 10 जिले इससे बुरी तरह प्रभावित हुए. वहीं बड़े बांधों के ज्यादातर गेट खोलने पड़ गए.

About Md. Saheb Ali 3102 Articles
Md. Saheb Ali

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*