ऑडियो वायरल मामले में लालू यादव पर हो गया मुकदमा, निगरानी थाने में ललन पासवान ने दर्ज कराया केस

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क : ऑडियो वायरल मामले में लालू यादव की मुश्किलें बढ़ने लगी है. पहले झारखंड जेल प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए उन्हें केली बंगले से निकालकर वापस रिम्स के पेइंग वार्ड में शिफ्ट कर दिया, तो अब बिहार के पीरपैती से बीजेपी विधायक ललन कुमार ने विजिलेंस थाने में लालू के खिलाफ केस दर्ज करा दिया है.

निगरानी थाना मे दिए आवेदन में बीजेपी विधायक ने लिखा है कि “मैं ललन कुमार, पिता स्व. शिवनाथ पासवान,  निवासी- बारा, थाना- ईषीपुर-बाराहाट, जिला भागलपुर,  विधायक,पीरपैंती,विधान सभा क्षेत्र संख्या 154, नवनिर्वाचित सदस्य, बिहार विधान सभा 2020, आज दिनांक – 26.11.2020 को आपको यह लिखित सूचना दे रहा हूँ कि दिनांक – 24.11.2020 को समय 6.19 अप. मेरे मोबाइल संख्या – 9771710340 पर मोबाइल संख्या – 8051216302 से एक टेलीफोन आया”



फोन उठाने पर दूसरी तरफ से बताया गया कि मैं लालू प्रसाद यादव बोल रहा हूँ, तब मैंने समझा की शायद चुनाव जीतने के कारण वो मुझे बधाई देने के लिए फोन किये है, इसी लिए मैंने उनको कहा, आपको चरण स्पर्ष। उसके बाद उन्होंने मुझे कहा कि वो मुझे आगे बढ़ाएंगे और मुझे मंत्री पद दिलवाएंगे, इसीलिये दिनांक- 25.11.2020 को बिहार विधान सभा अध्यक्ष की चुनाव में मैं अनुपस्थित होकर अपना वोट नहीं दूँ

उन्होंने यह भी बताया की इस तरह से वो कल NDA की सरकार गिरा देंगें। इसपर मैंने उन्हें कहा कि मैं पार्टी का सदस्य हूँ, ऐसे करना मेरे लिए गलत होगा, उसपर उन्होंने मुझे पुनः प्रलोभन दिया और कहा कि आप सदन से गैरहाजिर हो जाइए और कह दीजिये कि कोरोना हो गया है बाकि हम देख लेंगें।

इस तरह लालू प्रसाद यादव जो कि राष्ट्रीय जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं एवं रांची में चारा घोटाला केस में सजायाफ्ता हैं, उन्होंने जानबूझ कर सोची समझी साजिष के तहत मुझे राजनीति में आगे बढ़ाने एवं मंत्री बनाने का लालच देकर मुझे विधायक जो एक जन सेवक (पब्लिक सर्वेंट) होता है उसका वोट खरीदने एवं राष्ट्रीय जनतांत्रिक पार्टी की सरकार को गिराने के लिए जेल के अंदर से फोन लगाकर मुझसे मोबाइल फोन पर सम्पर्क किया एवं मेरा वोट अपने एवं अपनी पार्टी के महागठबंधन के पक्ष में लेने की कोषिष की एवं मुझसे भ्रष्टा आचरण कराने का प्रयास किया।

अतः श्री लालू प्रसाद यादव के विरुद्ध भारतीय दंड विधान एवं भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की सुसंगत धाराओं के अंतर्गत मुकदमा दर्ज कर कानूनी कार्रवाई की जाय।भवदीय, (ललन कुमार)

ललन कुमार के द्वारा निगरानी थाने में लालू के खिलाफ केस दर्ज करने की पुष्टि पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने की . उन्होंने ट्वीट कर लिखा “ललन पासवान ने पटना के निगरानी थाने में प्राथमिकी दर्ज की, लालू के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत हिरासत से टेलीफोन कॉल करने और मंत्रिस्तरीय बर्थ देने की पेशकश की,जिसमें एक लोक सेवक को रिश्वत देना और उसका भुगतान करना शामिल था”.