लालू के खिलाफ CEC को भेजा गया लेटर, सभी कैंडिडेट के नामांकन को अवैध घोषित करने की मांग

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्कः राजद सुप्रीमो लालू यादव पर बड़ा आरोप लगा है. यह आरोप लगाया है जदयू के प्रवक्ता और एमएलसी नीरज कुमार ने. इतना ही नहीं एक खुला खत भी लिखा गया है चुनाव आयोग को. इस खत में नीरज कुमार ने लिखा है कि क्या लालू यादव को लोक सभा चुनाव के लिए टिकट बंटवारे की प्रक्रिया में हस्ताक्षर करने का अधिकार है. क्या उन्होंने इसके लिए कोर्ट से इजाजत मांगी. अगर नहीं तो सभी उम्मीदवारों के नामांकन को अवैध घोषित किया जाए.

क्या लिखा है नीरज कुमार ने अपनी चिट्ठी में-

मुख्य निर्वाचन आयुक्त,
भारतीय चुनाव आयोग,
निर्वाचन सदन, नई दिल्ली.

राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद भ्रष्टाचार के मामले में रांची के होटवार जेल में बंद हैं और स्वास्थ्य कारणों से रिम्स, रांची के पेइंग वार्ड में इलाजरत हैं. जेल मैनुअल में स्पष्ट है कि इन्हें केवल परिजनों से मिलना है. लालू यादव से सप्ताह में एक दिन (शनिवार) को मिलने के लिए अदालत से आदेश लेना पड़ता है.

लालू एक पार्टी के अध्यक्ष भी हैं. लोकसभा चुनाव में अपने हस्ताक्षर से ही टिकट भी बांटे हैं. क्या टिकट बांटने में उन्होंने हस्ताक्षर करने के लिए अदालत से आदेश लिया है. अगर नहीं तो उनके द्वारा बांटे गए टिकट पर चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों के नामांकन को अवैध घोषित किया जाना चाहिए. चुनाव आयोग से निवेदन है कि अगर इन मामलों में नियमों की अवहेलना की गई है, तो यथोचित कार्रवाई करे.

जेल मैन्यूल के मुताबिक मुलाकात के दौरान राजनीतिक बातें नहीं करनी है परंतु केवल  राजनीतिक हस्तियों से मिलना स्पष्ट करता है कि राजनीतिक उद्देश्य से ही ऐसे लोगों से मुलाकात किया गया है. लालू प्रसाद एक सजायाफ्ता कैदी हैं जो भादवि के विभिन्न धाराओं में दोषी पाए गए हैं. वे एक क्रिमिनल केस में दोषसिद्ध अपराधी हैं, ना कि किसी जन आंदोलन के नेता हैं.

लालू प्रसाद लगातार सोशल मीडिया पर भी अपने विचार उद्धृत करते हैं, जिससे चुनाव प्रभावित किया जा रहा है। अगर, इनका टविटर हैंडल कोई दूसरा व्यक्ति चला रहा है, तो उन्हें यह भी बताना चाहिए कि लालू प्रसाद अपने विचार जेल से किसे बता रहे हैं. चुनाव प्रभावित करने वाले सोशल साइटों पर दिए गए लालू प्रसाद के बयान गंभीर हैं. मेरा आपसे विनम्र आग्रह है कि आदर्श चुनाव आचार संहिता बनाए रखने के लिए कारगर कार्रवाई की जाए.

About Md. Saheb Ali 5105 Articles
Md. Saheb Ali

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*