लालू के ऑडियो वायरल पर झारखंड प्रशासन में मची खलबली, एक दूसरे पर ठीकरा फोड़ने लगे अधिकारी…

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क : चारा घोटाला में सजायाफ्ता और रिम्स में इलाजरत लालू प्रसाद द्वारा बिहार के भाजपा विधायक को फोन कर मंत्री पद का प्रलोभन देकर सरकार गिराने की साजिश रचने के मामले में वायरल ऑडियो मामले में झारखण्ड की ब्यूरोक्रेसी में एक दूसरे पर टिकरा फोड़ने में लगे हैं. जहां इस मामले में सहायक जेल महानिरीक्षक जिला प्रशासन के पाले में गेंद डाल अपना पल्ला झाड़ लिया है.

सहायक जेल आईजी का कहना है कि लालू प्रसाद को स्वास्थ्य कारणों से रिम्स के पेइंग बिल्डिंग में रखा गया था उसके बाद कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए केली बंगले में शिफ्ट किया गया था. केली बंगला कोई जेल नहीं है. यह अस्पताल की जिम्मेवारी बनती है, की कैदी को कहां रखा जाए.  केली बंगले में सुरक्षा की पूरी व्यवस्था और पूरे जिम्मेवारी सुरक्षा में तैनात जिला प्रशासन और एस्कॉर्ट पार्टी की होती है.



सहायक जेल आईजी का कहना है कि जब तक हमें जांच प्रतिवेदन उपलब्ध ना हो , तब तक कुछ कहना मुश्किल होता है पूरे मामले की जांच करने के बाद ही तथ्य सामने आएंगे उसके बाद नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी.

वही रांची के उपायुक्त ने भी पल्ला झाड़ते हुए पूरे मामले को जेल प्रशासन की तरफ धकेल दिया है उनका कहना है कि पूरे मामले को लेकर जेल अधीक्षक को इस मामले की जांच और दोषियों की जवाबदेही तय करते हुए रिपोर्ट देने को कहा गया है.