नहीं रहे वाम नेता गणेश शंकर विधार्थी, राज्यपाल फागू चौहान, सीएम नीतीश ने जताया शोक

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क :  मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय सचिव व पोलित ब्यूरो के सदस्य पूर्व विधायक गणेश शंकर विद्यार्थी का सोमवार की देर रात निधन हो गया. उन्होंने पटना के एक प्राइवेट अस्पताल में अंतिम सांस ली. वे लंबे समय से बीमार चल रहे थे. वे नवादा स्थित रजौली के रहने वाले थे. वे दो बार विधायक रहे थे. वे 97 वर्ष की उम्र में भी लोगों के लिए सेवा भावना से काम करने को तत्पर रहते थे. लाठी के सहारे चलते हुए वह किसी भी ऑफिस में पहुंच जाते थे.

उनके निधन पर राज्यपाल फागू चौहान, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी समेत अनेक मंत्रियों व नेताओं ने शोक व्यक्त किया है. राज्यपाल फागू चौहान ने कहा कि उनके निधन से सामाजिक व राजनीतिक जगत में अपूरणीय क्षति हुई है.



दिवंगत गणेश शंकर विद्यार्थी का अंतिम संस्कार पटना के बांस घाट पर हुआ. मौके पर वामदलों के नेताओं में विधायक अजय कुमार, अवधेश नारायण, अरुण मिश्रा, गणेश शंकर मिश्र, रामपरी, मनोज चंद्रवंशी, अनीश अंकुर समेत अन्य लोग उनकी अंतिम यात्रा में शामिल हुए. 

वामपंथी राजनीति के पुरोधा थे : नीतीश

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वयोवृद्ध नेता गणेश शंकर विद्यार्थी के निधन पर दुख जताते हुए कहा कि वे वामपंथी राजनीति के पुरोधा, स्वतंत्रता सेनानी व प्रख्यात राजनेता थे. सीएम ने उनके पुत्र भास्कर शंकर से फोन पर बात कर उन्हें सांत्वना दी. कहा कि उनकी कमी हमेशा खलेगी.