झारखंड में शराब की दुकानें खुलीं, लगेगा कोरोना टैक्स

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : लॉकडाउन 4.0 में झारखंड में शराब की दुकानें खुल गई हैं. लेकिन दिल्ली एवं अन्य राज्यों की तरह यहां भी शराब महंगी हो सकती है. सरकार शराब पर अतिरिक्त कर लगाने की तैयारी में है, जिससे राज्य में शराब 25 प्रतिशत तक महंगी हो सकती है. दरअसल, सरकार कोरोना सरचार्ज लगाकर शराब को एमआरपी से अधिक दर पर बेचने की कोशिश में है.


वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव ने बताया कि सरकार शराब की बिक्री पर लगाम लगाने के लिए अतिरिक्त कर लगाने पर विचार कर रही है, जिससे अधिक राजस्व की प्राप्ति हो सकेगी. वैसे सोच यह भी है कि महंगी होने पर लोग इसे कम खरीदेंगे.


बता दें कि झारखंड में पहले से ही शराब पर 50 फीसदी वैट लागू है. राज्य सरकार को शराब से हर साल करीब दो हजार करोड़ की आमदनी होती है. उत्पाद विभाग के अधिकारियों की शराब व्यवसायियों के साथ हुई बैठक में लाॅकडाउन में ऑनलाइन और ऑफलाइन शराब बेचने पर सहमति बनी. बैठक के बाद उत्पाद आयुक्त विनय चैबे ने बताया कि शराब दुकानों में सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर ही शराब बेचने का निर्देश दुकानदारों को दिया गया है.

उन्होंने बताया कि 31 मई तक जितनी शराब उठायी जाएगी, उतने का ही कर देना होगा. ऑनलाइन बिक्री के लिए जोमैटो और स्वीगी को पहले शराब मुहैया कराई जाएगी. दुकान पर मौजूद लोगों से ज्यादा ऑनलाइन डिलीवरी को तवज्जो दी जाएगी.