रांची: भाकपा की टूटी आस, अब 28 को कार्यकारिणी में होगा फैसला

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : रांची से एक बड़ी खबर आ रही है. रांची में भाकपा को उस समय करारा झटका लगा जब उसकी महागठबंधन में शामिल होने की खबरें खत्म हो गयी. झारखंड में भाकपा को महागठबंधन का हिस्सा नहीं बनाया गया है. अब झारखंड में भाकपा अलग से लोकसभा चुनाव लड़ेगी. बहुत दिनों से कयास लगाया जा रहा था कि झारखंड में भाकपा महागठबंधन का हिस्सा होगी.

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) की महागठबंधन में शामिल होने की आस टूट गयी है. रविवार को महागठबंधन ने सीटों की घोषणा कर दी. इसमें भाकपा को एक भी सीट नहीं दी गयी है. भाकपा हजारीबाग सीट को लेकर कांग्रेस के संपर्क में थी. पार्टी के पोलित ब्यूरो सदस्य डी रजा ने दिल्ली में पार्टी पदाधिकारियों से मुलाकात कर झारखंड में एक सीट देने का आग्रह किया था.

सीट नहीं मिलने के बाद की परिस्थिति पर विचार करने के लिए भाकपा 28 मार्च को रांची में राज्य कार्यकारिणी की बैठक करेगी. इसमें कई सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा कर सकती है. भाकपा अन्य वामदलों वाली सीटों पर अपना प्रत्याशी नहीं देगी. पार्टी हजारीबाग के अतिरिक्त गिरिडीह, चतरा, दुमका और गोड्डा में भी चुनाव लड़ सकती है.

इधर, भाकपा माले सोमवार को प्रत्याशियों के नामों की घोषणा कर देगी. पार्टी कार्यालय में राष्ट्रीय महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य की उपस्थिति में कोडरमा और पलामू के प्रत्याशियों के नामों की घोषणा की जा सकती है. इसी दिन पार्टी अपना घोषणा पत्र भी जारी करेगी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*