पूर्णिया में थाने से मंदिर पहुंचे भगवान श्रीराम, कोर्ट के आदेश पर 6 महीने बाद पुलिस कैद से मिली मुक्ति

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क :आखिरकार भगवान राम, माता सीता और लक्षमण जी को पुलिस की कैद से मुक्ति मिल ही गयी. कोर्ट के आदेश पर तीनों को बिहार के इस जिले के प्राचीन राम जानकी ठाकुरबाड़ी मंदिर में स्थापित कर दिया गया. मूर्ति की स्थापना के बाद रामभक्तों में खुशी की लहर दौड़ गयी.

दरअसल यह मामला है बिहार के पूर्णिया जिले की. जहां पर एसीजेएम की अदालत के आदेश पर पूर्णिया के थाना में करीब छह महीने से बंद भगवान राम, माता सीता  और लक्ष्मण जी को कैद से मुक्ति मिली. कोर्ट के आदेश पर इन सभी को शहर के सबसे प्राचीन राम जानकी ठाकुरबाड़ी मंदिर में स्थापित कर दी गयी. जिससे भक्तों में उत्साह और खुशी का माहौल है.



बता दें कि 11 मार्च को पूर्णिया के सहायक खजांची थाना अंतर्गत रजनी चौक के पास प्राचीन ऐतिहासिक राम जानकी ठाकुरबाड़ी से करोड़ों की अष्टधातु की तीन प्राचीन मूर्तियों की चोरी हो गईं थीं. इनमें भगवान राम, माता सीता और लक्ष्मण जी की प्रतिमाएं शामिल थीं. चोरों ने इन मूर्तियों को खंडित कर दिया था. उनके हाथ-पैर काट डाले गए थे.

घटना के दो महीने बाद चोरी गई तीनों मूर्तियों को पुलिस ने बरामद कर लिया. साथ ही पुलिस ने नौ मूर्ति तस्करों को भी गिरफ्तार किया. बरामद मूर्तियां पुलिस सुरक्षा में सहायक खजांची थाना में बंद पड़ीं थीं. अदालत के आदेश पर इन मूर्तियों को विधि-विधान के साथ मंदिर में स्थापित किया गया.

भगवान श्रीराम और माता सीता तथा लक्ष्‍मण जी की चोरी गई मूर्तियों की बरामदगी और अब उनकी फिर मंदिर में स्‍थापना से भक्‍तों में खुशी का माहौल है. वे इस घटना को भगवान की कृपा मान रहे हैं. मूर्तियों को स्थापित करने के पहले उनकी मरम्मत कर पॉलिश की गई, फिर विधि-विधान से उनकी प्राण-प्रतिष्ठा की गई.