बीजेपी MLA ज्ञानेंद्र ज्ञानू का दावा, 17 जुलाई से पहले ही टूट जाएगा महागठबंधन

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा एनडीए से राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन देने के बाद से ही महागठबंधन में कलह बढ़ गई है. राजद-जदयू के बीच जुबानी जंग जहां तेज हो गई है. वहीं एनडीए की ओर से सीएम नीतीश के पक्ष में माहौल बनने लगा है. एनडीए के कई नेताओं ने सीएम नीतीश की तारीफ़ शुरू कर दी है. तो कई नेता खुल कर यह कह रहे हैं कि नीतीश कुमार को एनडीए में आ जाना चाहिए.  इसी क्रम में भाजपा विधायक ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू ने भी महागठबंधन पर जोरदार हमला बोला है. 

 

भाजपा विधायक ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू ने कहा कि महागठबंधन अब बहुत कमजोर हो चुका है. उन्होंने कहा कि यह जून-जुलाई तक चल जाए वही बहुत है. ज्ञानेंद्र सिंह ने कहा कि मुझे आश्चर्य हो रहा है कि महागठबंधन इतना दिन चल कैसे गया ? यह महागठबंधन स्वार्थवश इतना दिन चल गया. नीतीश कुमार और लालू प्रसाद दोनों अलग सोच के नेता हैं. इन दोनों में कोई तालमेल नहीं है. यह महागठबंधन बस जुलाई तक ही चलने वाली है. बता दें कि ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू  पूर्व में जदयू पार्टी से जुड़े रहे थे. फिर बाद में भाजपा में चले गए. एक बार फिर अब उनकी नजदीकियां नीतीश कुमार से बढ़ रहीं हैं.  

 

इससे पहले एनडीए घटक दल लोजपा  से सांसद चिराग पासवान ने भी खुल कर नीतीश कुमार का समर्थन किया है. उन्होंने कहा है कि बिहार में नीतीश कुमार के साथ मिलकर एनडीए की सरकार चलाने के लिए लोजपा जान लगा देगी. चिराग चाहते हैं कि नीतीश कुमार एनडीए में शामिल हो जाएं.

इधर, एनडीए के अन्य नेताओं ने भी नीतीश कुमार के प्रति नरमी अपनाते हुए उनकी तारीफ़ करना शुरू कर दिया है. रामविलास पासवान, राधामोहन सिंह, सुशील मोदी, मनोज तिवारी समेत कई अन्य नेताओं ने नीतीश कुमार को अच्छा व्यक्ति बताते हुए एनडीए से जुड़ने का न्यौता तक दे दिया है.

इधर आरजेडी से विधायक भाई वीरेंद्र ने तो बिहार के सीएम नीतीश कुमार को ठग करार दिया. उन्होंने कहा कि ऐसा कोई सगा नहीं है जिसे नीतीश कुमार ने ठगा नहीं है. उनके इस बयान के बाद से जेडीयू ने भी आरजेडी पर जम कर हमला बोला है. जिससे महागठबंधन में दरार साफ दिखने लगा है.

यह भी पढ़ें-  इंतजार खत्‍म : तैयार हो रहा है आपके लिए बंगला, जमीन सहित 16 लाख से शुरु
ये क्या बोल गये उपेंद्र कुशवाहा : जिस नाव पर जायेंगे नीतीश कुमार, वह नाव ही डूब जायेगी