NDA में जाने के निर्णय पर बुरे फंसे मांझी ! अब टूट जाएगा ‘हम’, प्रदेश अध्यक्ष उपेन्द्र प्रसाद ने ही खोला मोर्चा

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क : जीतनराम मांझी ने एनडीए में जाने की औपचारिक घोषणा कर दी. 3 सितंबर को विधिवत रूप से मांझी की पार्टी हम जेडीयू के सहयोगी के रूप में एनडीए का एक घटक दल बन जाएगा. लेकिन मांझी के इस फैसले के विरोध में हम पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष उपेन्द्र प्रसाद ने ही मोर्चा खोल दिया है.



उपेन्द्र प्रसाद ने मांझी के एनडीए में जाने के फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है. उन्होंने कहा कि जिस संप्रदायिक गठबंधन का हमलोगों ने विरोध करने का काम किया, आज उसी गठबंधन में मांझी शामिल होने जा रहे हैं. इस फैसले से पार्टी नेताओं में रोष है.

प्रदेश अध्यक्ष उपेन्द्र प्रसाद ने यह भी कहा कि हम का एक धड़ा आज भी महागठबंधन के साथ रहना चाहता है. लेकिन उनकी आशा, आकांक्षा को दरकिनार कर मांझी ने एनडीए में जाने का निर्मय लिया है. जिसका हमसभी घोऱ निंदा करते हैं.

बता दें कि जीतनराम मांझी ने आज ही एनडीए में जाने की घोषणा की है. जिसकी जानकारी उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस कर मीडिया को दी. उन्होंन हर एक उस आरोप का भी जवाब दिया जो आरजेडी और उसके सहयोगी दल लगाते थे.

मांझी ने बेटे संतोष को एमएलसी बनाए जाने को लेकर कहा कि मेरे बेटे को एमएलसी बनाकर लालू प्रसाद ने कोई एहसान नहीं किया. शर्त के मुताबित ऐसा किया गया था. फिर अब आरोप क्यों लगाया जा रहा है. वहीं आरजेडी में भाई-भतीजावाद और भ्रष्टाचार का आरोप लगात हुए मांझी ने कहा कि वहां जमीनी नेताओं की कोई कद्र नहीं है.

वहीं इसबार फिर बिहार में एनडीए की सरकार बनवाने का दावा करते हुए मांझी ने कहा कि सरकार बनाने के लिए वो एड़ी चोटी की जोड़ लगा देंगे. विकास के नाम पर जनता वोट करेगी. जबकि सीट शेयरिंग मामले पर कहा कि इसको लेकर कोई विवाद नहीं है.