आरजेडी को बदनाम करने की हो रही कोशिश, मनोज झा ने कहा – पूर्व सीएम के नाम पर अलॉट नंबर से किया जा रहा फोन

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर पार्टियों ने अब उम्मीदवारों को सिंबल देना शुरू कर दिया है. इसी कड़ी में राजद ने आज अपने कुछ उम्मीदवारों को सिंबल दिया है. इस बीच पूर्व राजद नेता शक्ति मलिक की हत्या में तेजस्वी और तेजप्रताप यादव पर केस होन के बाद अब राजनीति तेज हो गई है. तेजस्वी पर चुनावी माहौल में हुए केस पर राजद ने अपनी बात रखने की कोशिश की है.

पूर्व राजद नेता शक्ति मल्लिक की हत्याकांड के बाद अब बिहार की सियासत में वार पलटवार का दौर शुरु हो गया है. शक्ति मल्लिक हत्याकांड में तेजस्वी और तेजप्रताप यादव के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. इस पर आज राजद सांसद मनोज झा ने प्रेस कान्फ्रेंस कर कहा कि चुनाव से पहले सत्ता पक्ष इस तरह की चाल चल रहा है. मनोज झा ने कहा कि जो नंबर सालों पहले राबड़ी आवास से कट गया अब उस नंबर को लेकर राजनीति की जा रही है. उनका कहना है कि चुनाव में इस तरह के हथकंडे अपनाना किसी भी तरीके से जायज नहीं है. मनोज झा ने कहा कि तेजस्वी यादव पर जो केस हुआ उस केस की कॉपी और समन का हम इंतजार कर रहे हैं उसके बाद आगे की कानूनी रणनीति बनाई जाएगी.



मनोज झा ने कहा कि 06122217222 फोन नंबर 2016 में राबड़ी आवास से कट गया फिर वो नंबर 2018 में वन विभाग को अलॉट हुआ. फिर भी उस नंबर को ट्रु कॉलर पर तेजस्वी यादव का नाम बताता है. उन्होंने बताया कि राबड़ी आवास से उक्त फोन नंबर डिस्कनेक्ट होने के बाद फोन नंबर वन विभाग को अलॉट हुआ लेकिन 2019 में वहां से भी कट गया तो ये विच्छेदित फ़ोन किसके गोद में जाकर बैठ गया. यह डिस्कनेक्टेड फ़ोन विपक्ष पर हमला का माध्यम बन गया. अब आप इस हद तक आ गए कि झूठा केस मुकदमा करा रहे हैं. मनोज झा ने कहा कि तेजस्वी यादव ने बेरोजगारों को रोजगार देने की बात क्या की सत्तापक्ष खलबला गया. मनोज झा ने कहा कि इस मामले में हमने बीएसएनएल को भी चिट्टी लिखा है और कहा है कि वो अपना पक्ष क्लीयर करें.

बता दें कि रविवार की सुबह पूर्णिया जिले में राजद एससी-एसटी प्रकोष्ठ के पूर्व प्रदेश सचिव शक्ति मल्लिक की अपराधियों ने मुर्गी फॉर्म रोड स्थित घर में घुसकर हत्या कर दी थी. घरवाले घायल अवस्था में उसे सदर अस्पताल ले गए, मगर कुछ ही देर में शक्ति मल्लिक की मौत हो गई. इस मामले में मृतक के पिता और पत्नी ने राजद नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव समेत पांच ज्ञात और तीन अज्ञात को नामजद करते हुए प्राथिमकी दर्ज कराई है. परिजनों का आरोप है कि तेजस्वी यादव, तेज प्रताप यादव, कालू पासवान, अनिल साधु और सुनीता देवी ने हत्या करवाई है. खजांची हाट थाने की पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज होने की पुष्टि की .