फिर खतरे में मेयर सीता साहू की कुर्सी! उपमेयर मीरा देवी ने अविश्वास प्रस्ताव के लिए नगर आयुक्त को लिखा पत्र

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : मेयर सीता साहू की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है. अविश्वास प्रस्ताव के अग्निपरीक्षा पास किए एक सप्ताह भी पूरे नहीं हुए कि फिर से विरोध गुट अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी में जुट गया. इस बार पटना नगर निगम के डिप्टी मेयर मीरा देवी ने मेयर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. उन्होंने नगर आयुक्त को पत्र लिखकर 31 जुलाई की बैठक को असंवैधानिक करार दिया.  

उपमेयर मीरा देवी ने नगर आयुक्त से पटना मेयर सीता साहू के खिलाफ 17 अगस्त को अविश्वास प्रस्ताव लाने को पत्र लिखा है. मीरा देवी ने 31 जुलाई को हुई अविश्वास प्रस्ताव की बैठक को असंवैधानिक करार दिया साथ ही कहा कि वो इस मामले को लेकर कोर्ट भी जाएंगी.



इसके पहले पूर्व उपमेयर विनय कुमार पप्पू के नेतृत्व में 41 वार्ड पार्षदों में सीता साहू के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया था. जिसको लेकर 31 जुलाई को पटना के एसकेएम में वोटिंग हुई. वोटिंग में मेयर के खिलाफ मात्र 4 वोट पड़े. विरोधी खेमा के कई पार्षद बैठक शुरू होने से पहले ही वॉकआउट कर गए थे. जिसका फायदा मेयर गुट को मिल गया.

मेयर को कुर्सी से हटाने के लिए 38 वोट की जरूरत थी. लेकिन विरोध में मात्र 4 वोट ही पड़े. इस प्रकार सीता साहू के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव गिर गया. उस दौरान भी उपमेयर ने इस बैठक को असंवैधानिक करार दिया था. लेकिन विपक्ष की मांग को नगर आयुक्त ने सिरे से खारिज कर दिया था.

मेयर सीता साहू पर विरोध गुट का आरोप

-आउटसोर्स के माध्यम से निगम कोष की लूट हो रही है
– निगम में भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी चरम पर
– पद की गरिमा,बैठक की अध्यक्ष्ता और संचालन में सक्षम नहीं है मेयर
– पार्षदों का मान-सम्मान नहीं 
– पार्षदों से किसी भी मुद्दे पर राय सलाह नहीं लेना
– विकास योजनाओं में भेद-भाव करना
– कोरोना महामारी में पटनावासियों के लिए कुछ नहीं किया
– लेखा समिति का गठन नहीं किया
– वार्ड समिति का नहीं हुआ गठन
– मासूमियत से जालसाजी और धोखाधड़ी चरम पर