मीसा और शैलेश से IT ने की सात घंटे पूछताछ, लगाई सवालों की झड़ी

लाइव सिटीज डेस्क: लालू प्रसाद यादव की बेटी और राज्यसभा सांसद मीसा भारती बुधवार की दोपहर झंडेवालान स्थित आयकर विभाग के दफ्तर में पहुंची. दफ्तर पहुंचने के बाद करीब 7 घंटे तक उनसे सवाल पूछे गए. बेनामी संपत्ति मामले में आयकर विभाग मीसा भारती को पहले दो बार नोटिस जारी कर चुका है. उनके दोनों बार विभाग के सामने पेश न होने की वजह से उनके खिलाफ मामला भी दर्ज हो चुका है और उनकी संपत्ति को अस्थाई तौर से जब्त भी किया जा चुका है.

दफ्तर में पूछे गए सवाल

  1. आपका पैन नम्बर क्या है और आप अपना आयकर रिटर्न कहां और कैसे फाइल करती हैं?
  2. आप कितनी कम्पनियों में डायरेक्टर हैं?
  3. इन कम्पनियों के जरिए आप अब तक कितना लोन ले चुकी हैं?
  4. आपकी कंपनी मिशेल प्राइवेट लिमिटेड को 1.2 करोड़ रुपये का लोन क्यों दिया गया?
  5. आपकी कम्पनियों में कितना सुरक्षित लोन है और उसमें से आप कितना वापस कर चुकी हैं?
  6. इन लेंड़र कम्पनी को आपने कभी भी लोन वापस किया है?
  7. आपकी कम्पनियों के रोल और काम क्या हैं? अपनी कम्पनियों में काम करने वाले कर्मचारियों की जानकारी दीजिए?
  8. डायमंड विनमय और आपके बीच में क्या संबंध हैं और उन्होंने 30 लाख के शेयर क्यों खरीदे?
  9. विनय नागपाल को आप कैसे जानती हैं?
  10. विनय नागपाल ने अपनी कम्पनी केएचके को क्यों बेचा?
  11. क्या आप सीए राजेश अग्रवाल को जानती हैं, अगर हां तो कैसे?
  12. आइसबर्ग कम्पनी से लोन क्यों लिया गया?
  13. आप शेयर को कम कीमत पर खरीद कर ज्यादा में बेचने में सफल रहीं हैं?

बता दें कि आयकर विभाग ने फौरी तौर पर वह सारी बेनामी संपत्ति जब्त कर ली है. जो लालू प्रसाद यादव के बच्चों से जुड़ी हुई बताई जाती है. आयकर विभाग ने लालू प्रसाद की पत्नी राबड़ी देवी, बेटे तेजस्वी यादव, बेटी मीसा भारती और उनके पति शैलेष, बेटी रागिनी और बेटी चंदा की प्रॉपर्टी जब्त की है. इससे पहले लालू प्रसाद के बच्चों से जुड़ी बेनामी संपत्ति जब्त करने के आदेश सोमवार को ही जारी किए गए हैं.

साथ ही लालू यादव की बड़ी बेटी और राज्यसभा की सांसद मीसा भारती को आयकर विभाग ने तलब भी किया था, उन्हें जुलाई के पहले हफ्ते में आयकर विभाग के दफ्तर में पेश होकर बेनामी लेन-देन पर स्पष्टीकरण देने को कहा गया है. इससे पहले आयकर विभाग ने 50 करोड़ की संपत्ति जब्त की थी. बेनामी एक्ट के मुताबिक विभाग को 90 दिन का समय स्पष्टीकरण देने के लिए देना होता है. अगर संबंधित पक्ष इसमें विफल रहता है तो जब्ती और कुर्की की कार्रवाई की जाती है.

गौरतलब है कि मीसा भारती और उनके पति शैलेश कुमार को आयकर विभाग ने दो बार समन भेजा लेकिन, वे पेश नहीं हुए. उनके वकील ने इसके पीछे मीडिया और सुरक्षा कारणों को वजह बताया. इससे पहले 6 जून को पेश न होने पर आयकर विभाग ने मीसा भारती पर 10 हजार का जुर्माना भी लगाया था. पिछले माह 23 मई को आयकर विभाग ने बेनामी संपत्ति के मामले में लालू प्रसाद यादव और उनके करीबियों से जुड़े 22 ठिकानों पर छापेमारी की थी हालांकि लालू प्रसाद ने छापेमारी की बात से इनकार किया था.