क्यों मोदी सरकार का साथ छोड़ रहे हैं उनके टॉप के अधिकारी, 4 साल में चौथा इस्तीफा

modi government, 4 years modi government, arvind subhramanian, raghuram rajan quit, मोदी सरकार, मोदी सरकार के चार साल, आर्थ‍िक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यन, अरविंद सुब्रमण्यन का इस्तीफा

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्कः मोदी सरकार के मुख्य आर्थ‍िक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यन ने अपने पद से इस्तीफा देने की घोषणा कर दी है. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने उनके इस फैसले की जानकारी देते हुए बताया कि वह निजी वजहों से इस पद से इस्तीफा दे रहे हैं. मोदी सरकार के 4 साल के कार्यकाल में अरविंद से पहले तीन और अध‍िकारी अपना पद छोड़ चुके हैं.

अमेरिका लौट रहे हैं अरविंद सुब्रमण्यन

मुख्य आर्थ‍िक सलाहकार के तौर पर काम करने वाले अरविंद सुब्रमण्यन ने मीडिया को बताया कि वह अमेरिका लौट रहे हैं. अपनी पार‍िवारिक जिम्मेदारियों की वजह से वह अपने पद से इस्तीफा दे रहे हैं. उन्होंने मुख्य आर्थ‍िक सलाहकार के तौर पर काम करने को बेस्ट जॉब बताया और वित्त मंत्री अरुण जेटली को बेस्ट बॉस. उन्होंने जानकारी दी कि वह सितंबर में अपना पद छोड़ सकते हैं.

अरविंद सुब्रमण्यन

पिछले साल अरविंद पनगड़‍िया ने छोड़ी थी कुर्सी

पिछले साल अरविंद पनगड़िया ने नीति आयोग के वाइस चेयरमैन के पद से इस्तीफा दे दिया था. इस दौरान उन्होंने बताया था कि वह वापस कोलंबिया यूनिवर्सिटी में लौटना चाहते हैं. जहां वह फिर से टीचिंग से जुड़ेंगे. पनगड़‍िया ने ढाई साल तक नीति आयोग के वाइस चेयरमैन का पद संभाला.

अरविंद पनगड़िया

रघुराम राजन भी साथ छोड़ चले गए थे

जून 2016 में भारतीय रिजर्व बैंक के तत्कालीन गवर्नर रघुराम राजन ने केंद्रीय बैंक के कर्मचारियों को एक पत्र लिखा. इसमें उन्होंने बताया कि वह सितंबर में अपना कार्यकाल खत्म होने पर वापस टीचिंग करने के लिए लौटना चाहेंगे. हालांकि उनके जाने को लेकर काफी चर्चा भी हुई. कुछ रिपोर्ट्स में यह दावा भी किया गया कि वह गर्वनर के तौर पर दूसरा कार्यकाल जारी रखना चाहते थे, लेकिन सरकार के साथ पटरी न बैठने की वजह से वह ऐसा नहीं कर रहे हैं.

रघुराम राजन

विजयलक्ष्मी जोशी ने भी दिया था इस्तीफा

स्वच्छ भारत अभ‍ियान को एक साल भी पूरा नहीं हुआ था और इस अभियान की प्रमुख विजय लक्ष्मी जोशी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया.

विजयलक्ष्मी जोशी

गुजरात काडर की आईएएस ऑफ‍िसर विजयलक्ष्मी जोशी ने अपना इस्तीफा देने के लिए निजी वजहों का हवाला दिया. 1980 बैच की अध‍िकारी विजयलक्ष्मी ने अपने पद से वॉलिंट‍ियरी रिटायरमेंट मांगा, जिसे केंद्र सरकार ने भी सहर्ष स्वीकार कर लिया.

About Md. Saheb Ali 3643 Articles
Md. Saheb Ali

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*