‘पटना DTO ऑफिस में मुझे छेड़ते थे ये MVI अधिकारी, गलत तरीके से करते थे टच’

पटना : राजधानी के एमवीआई अधिकारी संजय कुमार अश्क पर छेड़खानी करने का आरोप लगा है. ये गंभीर आरोप डीटीओ आॅफिस में उनके अंदर में काम करने वाली एक महिला स्टाफ ने लगाया है. महिला स्टाफ का आरोप है कि संजय कुमार अश्क उनपर गंदी नजर रखते थे. हर वक्त गंदी बात करते थे. हमेशा गलत तरीके से शरीर को टच करने की को​शिश करते थे. काम के दौरान महिला स्टाफ को एमवीआई की केबिन में बैठना पड़ता था और गंदी हरकतें उसी दौरान की जाती थीं.

आरोप है कि एमवीआई अधिकारी आफिसियल बात करने के लिए भी महिला को या तो अपने घर आने को कहते थे या फिर वो खुद उनके घर जाने की बात करते थे. छेड़खानी का ये मामला बिहार राज्य महिला आयोग के पास जा पहुंचा है. 16 मार्च को ही पीड़ित महिला ने आयोग में कंप्लेन किया था. जिसके बाद आयोग की तरफ से एमवीआई अधिकारी को सम्मन जारी कर सोमवार को सुनवाई के दौरान पेश होने के लिए कहा गया था. सुनवाई के दौरान पीड़ित महिला स्टाफ तो सामने आई, लेकिन एमवीआई अधिकारी नहीं पहुंचे. आयोग के पास पहुंचा इनका लेटर. जिसमें अगले डेट पर आयोग के समक्ष पेश होने की बात कही गई है.

पुलिस ने नहीं की कोई कार्रवाई

महिला स्टाफ की मानें तो छेड़खानी की घटना 12 मार्च की है. जिसके बाद मामले की कंप्लेन उन्होंने पटना के महिला थाना में की थी. साथ ही कमिश्नर, डीएम सहित पुलिस के सीनियर अधिकारियों से भी पूरे मामले की जांच कराने और आरोपी एमवीआई अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी. लेकिन ऐसा हुआ नहीं. एफआईआर दर्ज होने के बाद भी जब एमवीआई अधिकारी के खिलाफ कोई कार्रवाई पटना पुलिस की तरफ से नहीं की गई तो उसके बाद ही पीड़िता महिला आयोग के शरण में गई.

यह भी पढ़ें- यूं ही नहीं लालू की सजा को तेजस्वी साजिश बता रहे, सवाल तो है

अब केस उठाने की दे रहा है धमकी

महिला स्टाफ का केस करना एमवीआई अधिकारी संजय कुमार अश्क को नागवार गुजर रहा है. आरोप है कि केस उठाने के लिए महिला को लगातार धमकी दी जा रही है. धमकी कोई और नहीं, बल्कि संजय कुमार अश्क और उनके कुछ खास लोग दे रहे हैं. बात न मानने पर बुरे परिणाम भुगतने और पटना से ट्रांसफर करवा दिए जाने की धमकी दी जा रही है. दूसरी तरफ स्टेट ट्रांस्पोर्ट डिपार्टमेंट के सेक्रेटरी संजय कुमार अग्रवाल के संज्ञान में ये मामला आ चुका है. इनकी मानें तो पूरे मामले की इंटरनल जांच कराई जा रही है. वहीं, महिला आयोग ने साफ कर दिया है कि अगर एमवीआई दोषी पाए जाएंगे तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी. उन्हें बख्शा नहीं जाएगा.

वीडियो में देखिए…पटना यूनिवर्सिटी में पुलिस ने कैसे छात्रों को खदेड़-खदेड़ कर भगाया…

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*