नंदकिशोर यादव ने कहा- पहले घपला-घोटाला अब चौपट शिक्षा व्यवस्था से बिहार कलंकित

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार में इंटरमीडिएट परीक्षा के नतीजे बहुत ही निराशाजनक रहे. इस मामले में भारतीय जनता पार्टी ने गहरी निराशा जाहिर करते हुए बिहार सरकार व शिक्षा व्यवस्था पर हमला बोला है. भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं बिहार विधानसभा की लोक लेखा समिति के सभापति नंदकिशोर यादव ने कहा कि इंटरमीडिएट के परीक्षाफल ने राज्य की शिक्षा व्यवस्था की पोल खोल दी है. 

उन्होंने कहा कि बिहार की मेघा का पूरी दुनिया में लोहा माना जाता है लेकिन इंटर के रिजल्ट ने उसे धूलधूसरित कर दिया है. पिछले वर्ष घपला-घोटाले के बदनुमा दाग से शिक्षा व्यवस्था कलंकित हुई तो इस बार चौपट शिक्षा व्यवस्था के कारण.

नंद किशोर यादव ने बिहार के शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी पर हमला बोलते हुए कहा कि बिहार का रिजल्ट पूरे देश में सबसे खराब रहा. इसके बावजूद शिक्षा मंत्री का इस पर खुशी जाहिर करना बेहद शर्मनाक है. 

नंदकिशोर यादव ने कहा कि इंटर के विज्ञान, कला एवं वाणिज्य संकाय की परीक्षा में शामिल साढ़े बारह लाख छात्र-छात्राओं में से आठ लाख परीक्षार्थियों का फेल हो जाना यह बताने के लिये पर्याप्त है कि बिहार में शिक्षा व्यवस्था का क्या हाल है.

नंदकिशोर यादव ने कहा कि बिहार में साइंस स्ट्रीम के नतीजे सन्न करने वाले हैं. 6.6 लाख छात्रों में से साढ़े 4 लाख छात्र-छात्राएं  फेल कर गए. साइंस स्ट्रीम में महज 30 फीसदी बच्चे ही सफल हुए हैं. जिनमे सिर्फ 8 फीसदी बच्चे ही फर्स्ट डिवीज़न से पास हुए हैं. उन्होंने कहा कि यही हाल कला संकाय का भी रहा जहां 5.34 लाख स्टूडेंट्स में से 3.30 लाख छात्र-छात्राएं फेल हो गए.  उन्होंने कॉमर्स के सबसे अधिक रिजल्ट पर भी हमला बोला है. कॉमर्स से सिर्फ 44 हजार छात्र परीक्षा में शामिल हुए थे जिसमें 15 हजार फेल ही कर गए.

उन्होंने कहा कि बिहार इंटरमीडिएट परीक्षा पास चाह्त्रो को अब दिल्ली के किसी भी बेहतरीन कॉलेज में एडमिशन मिलना तो दूर, पटना के भी यूनिवर्सिटी में दाखिला नहीं मिलेगा. उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भी इस पर बोलने को कहा है.

यह भी पढ़ें-  सच ये है : गिरिडीह से समस्तीपुर पढ़ने आया था गणेश, बन गया बिहार टॉपर
Special : रिजल्‍ट बहुत खराब है, पास से अधिक फेल हैं, DU के Top10 कॉलेजों में नहीं दिखेगा बिहार