नए सिटी एसपी ने पकड़ ली है कामचोरी, पेंडिंग पड़े हैं ईस्ट एरिया के 50 से भी अधिक केस

राजेंद्र कुमार भील, सिटी एसपी, ईस्ट पटना

पटना : वारदातें होती हैं. उसके बाद एफआईआर भी दर्ज होता है. लेकिन वो काम नहीं होता है, जिसका जिम्मा थाने में तैनात पुलिस पदाधिकारियों को दिया जाता है. न केस की जांच होती है और न ही वारदात को अंजाम देने वाले अपराधी पकड़े जाते हैं. जब केस की जांच ही नहीं होती है तो उसे अंजाम तक पहुंचाने के बारे में सोंचना भी बेइमानी होगी. मामला पेंडिंग में पड़े केसों का है. जो काफी संख्या में मिली है. जिससे पता चलता है कि ​राजधानी के थानों में कामचोरी होती है. थानों में हो रही कामचोरी को पटना ईस्ट के नए सिटी एसपी राजेन्द्र कुमार भील ने पकड़ लिया है. अपनी ज्वाइनिंग के बाद से ही वो पेंडिंग पड़े केसों को खंगालने में जुट गए थे. अब उनके हाथों में पेंडिंग केसों की लंबी लिस्ट है.

— दो साल से भी अधिक समय से है पेंडिंग

पटना ईस्ट एरिया के तहत छोटे—बड़े कुल 22 थाने आते हैं. किसी थाने में 10 तो किसी थाने में 5 केस पेंडिंग मिले हैं. जबकि छोटे थानों में 2—3 केस पेंडिंग पड़े हैं. पेंडिंग पड़े कुल केसों की संख्या 50 से अधिक बताई जा रही है. इनमें बहुत सारे गंभीर मामले भी हैं. सिटी एसपी ईस्ट की मानें तो हत्या, लूट, डकैती और रंगदारी से जुड़े मामले हैं. इनमें कई ऐसे मामले हैं, जिनमें अपराधियों की गिरफ्तारी तो दूर, जांच भी नहीं हुई है. ऐसे मामले दो साल से भी अधिक समय से पेंडिंग पड़े हुए हैं.

— एक—एक कर खुद करेंगे रिव्यू

पेंडिंग केसों की लिस्ट को तैयार कर सिटी एसपी ने अपने पास रख लिया है. अब एक—एक कर हर पेंडिंग केस का वो खुद रिव्यू करेंगे. केस के रिव्यू के दौरान इंवेस्टिगेशन आॅफिसर, थानेदार और संबंधित डीएसपी को मौजूद रहना होगा. इन सभी को सिटी एसपी के सवालों का जवाब देना होगा. ये बताना होगा कि आखिर ये केस लंबे वक्त से क्यों पेंडिंग पड़े हैं? आखिर क्या कारण है कि केस की जांच नहीं हुई? वारदात को अंजाम देने वाले अपराधियों को क्यों नहीं पकड़ा गया?

— …तो फिर होगी कार्रवाई

कई ऐसे भी अपराधी होंगे, जो एक नहीं बल्कि कई आपराधिक वारदातों में शामिल होंगे. अगर केस की सही से जांच कर कार्रवाई की जाती तो वो आज सलाखों के पीछे होते. सिटी एसपी ईस्ट भी इस बात को मानते हैं. अब वो पेंडिंग केस के इंवेस्टिगेशन आॅफिसर और थानेदारों को काम करने का मौका दे रहे हैं. सिटी एसपी ने ये तय कर दिया है कि अगर मौका देने के बाद भी किसी ने लापरवाही बरती तो वैसे पुलिस वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई भी होगी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*