लोकसभा चुनाव: मोदी कैबिनेट के चार मंत्रियों की किस्मत दांव पर, 19 मई को वोटिंग

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : लोकसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण में बिहार की आठ सीटों पर 19 मई को वोटिंग होनी है. इस फेज की वोटिंग में बिहार कोटे से मोदी कैबिनेट में चार मंत्री की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई है. बिहार की जिन चार सीटों से मोदी कैबिनेट के मंत्री चुनावी समर में हैं. उनमें पटना साहिब सीट से केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, पाटलिपुत्र से केंद्रीय राज्य मंत्री रामकृपाल यादव, आरा सीट से केंद्रीय राज्य मंत्री आरके सिंह और बक्सर लोकसभा सीट से केंद्रीय राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे शामिल हैं.

बिहार के इन चारों सीटों पर एनडीए का सीधा मुकाबला महागठबंधन से है. लड़ाई कितनी तगड़ी है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि चार में से तीन सीटों के लिए पीएम नरेंद्र मोदी खुद चुनाव प्रचार करने आ चुके हैं. मोदी ने अपने मंत्रियों की जीत सुनिश्चित करने के लिए दो दिन बिहार को समय दिया और बक्सर के साथ ही पटना के पालीगंज में भी सभा की. बक्सर की सभा का सीधा असर आरा और बक्सर लोकसभा सीट पर होगा तो वहीं पालीगंज की सभा से पटना साहिब और पाटलिपुत्र के वोटरों को साथ लेने की कोशिश की जा रही है.

दरअसल, 2014 के चुनाव की बात करें तो इस चुनाव में सभी प्रत्याशियों को जीत मिली थी लेकिन इस बार की परिस्थितियां, उम्मीदवार और समीकरण सब कुछ बदल चुका है. आरा में जहां आरके सिंह का मुकाबला माले के राजू यादव से है. वहीं पटना साहिब सीट से रविशंकर प्रसाद के सामने शत्रुघ्न सिन्हा हैं. पाटलिपुत्र सीट से मुकाबला 2014 की तरह ही चाचा-भतीजी यानी रामकृपाल यादव बनाम मीसा भारती है. वहीं बक्सर की लड़ाई में अश्विनी कुमार चौबे के सामने राजद के जगदानंद सिंह हैं.

आपको बता दें कि इन चारों सीटों पर लड़ाई बहुत ही रोचक होने वाली है. दोनों गठबंधन की तरफ से जोरदार कोशिश की जा रही है. दोनों गठबंधन के दिग्गज नेता इस चुनावी सभा को संबोधित कर रहे हैं. इस आखिरी चरण में 17 मई को शाम 6 बजे चुुनाव प्रचार थम जाएगा. इन चारों सीटों के अलावा और जो चार सीटें है उनमें नालंदा, जहानाबाद, काराकाट और सासाराम की सीटें हैं. सासाराम की सीटें भी काफी रोचक है. इस सीट पर पूर्व लोकसभा अध्यक्ष व कांग्रेस प्रत्याशी मीरा कुमार तो वहीं भाजपा से छेदी पासवान चुनावी मैदान में हैं.