AES से मासूम की मौत से पंकज त्रिपाठी दुखी, ट्वीट कर बच्चों के प्रति जताई संवेदना

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : AES के कहर से बिहार के कई जिलों में बच्चों की मौत का सिलसिला जारी है. बिहार के मुजफ्फरपुर समेत 16 जिलों में इस बीमारी के तांडव ने 150 से अधिक बच्चों को मौत की नींद सुला दिया है. मुजफ्फरपुर में लगातार नेताओं और मंत्रियों का आना लगा हुआ है लेकिन किसी के पास भी इस बीमारी से बच्चों को बचाने का उपाय नहीं है. सिवाए सांत्वना और दिलासा के मासूम बच्चों के परिजनों को कुछ भी हासिल नहीं हो रहा है.

पंकज त्रिपाठी ने जताया दुख

बिहार में एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम से मौत पर अभिनेता पंकज त्रिपाठी ने दुख व्यक्त किया है. पंकज त्रिपाठी ने मासूम बच्चों की मौत को लेकर एक ट्वीट के माध्यम से दुख और संवेदना जाहिर किया है. ट्वीट में उन्होंने लिखा कि “मुजफ्फरपुर की घटना ने अंदर तक झकझोर कर रख दिया है. बहुत विचलित महसूस कर रहा हूं. समझ में नहीं आता किस-किस को दोष दें. एक देश, एक राज्य, एक समाज और एक व्यक्ति हर स्तर पर हमारी असफलता है. हम किस सदी में जी रहे हैं? सरकार, अधिकारी, सिस्टम, समाज, आप और हम सब को माफी मांगनी चाहिए बच्चों से.”

पंकज त्रिपाठी बिहार से जुड़े फिल्म अभिनेता हैं. पंकज इन दिनों रणवीर सिंह के साथ ’83’ की शूटिंग में व्यस्त हैं.

मांझी-शॉटगन ने सरकार पर साधा निशाना

बता दें  कि AES से मासूम बच्चों की मौत के मुद्दे पर बिहार की सियासत में भी काफी उथल-पुथल है. जनाधिकार पार्टी के प्रमुख ने सीधे तौर पर कहा है कि इन मौतों के लिए केंद्र और राज्य सरकार जिम्मेवार हैं. उन्होंने कहा कि अगर पहले से तैयारी की जाती तो मुजफ्फरपुर में ऐसी स्थिति उत्पन्न नहीं होती. वहीं पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने भी बच्चों की मौत के लिए केंद्र और राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने कहा कि सीएम नीतीश कुमार को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए. वहीं उन्होंने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से भी इस्तीफे की मांग की है.

बीजेपी छोड़कर कांग्रेस में गए शत्रुघ्न सिन्हा ने भी ट्वीट कर इसे बिहार के लिए अब तक की सबसे बड़ी त्रासदी बताया. शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि इतने सालों में AES पर रोक न लगा पाना केंद्र और राज्य सरकार की बड़ी नाकामयाबी है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*