बड़ी सफलता : शातिर नेपाली फरमुल्लाह मोतिहारी से गिरफ्तार

लाइव सिटीज डेस्क : एनआइए की ओर से इनामी घोषित नेपाल के बारा जिलांतर्गत हरिहरपुर, सिमरोनगढ़ निवासी फरमुल्लाह अंसारी को गिरफ्तार करने में मोतिहारी पुलिस को सफलता मिली है.  

रक्सौल डीएसपी राकेश कुमार के नेतृत्व में गठित विशेष टीम ने उसे पूर्वी चंपारण जिले के रक्सौल थानांतर्गत इस्लामपुर मोहल्ला के पास से गिरफ्तार किया है. गिरफ्तारी के बाद फरमुल्लाह से पुलिस की टीम सघन पूछताछ कर रही है.



बताया गया है कि उसके और पांच अन्य के खिलाफ जाली नोट का धंधा करने को लेकर एनआइए के दिल्ली थाने में आरसी-2 2014/एनआइए/डीएलआई/के तहत मामला दर्ज है. मामले में एनआइए कुल छह आरोपितों में से दो को गिरफ्तार कर चुकी है.

उनमें से एक फरमुल्लाह की गिरफ्तारी मोतिहारी पुलिस ने की है. तीन अभी फरार चल रहे हैं.  बताया गया है कि जाली नोट के इस धंधे में एनआइए की जांच में कुल छह लोगों की भूमिका सामने आई थी. उनमें से दो पाकिस्तानी, तीन नेपाली और एक भारतीय शामिल है.

फरमुल्लाह की तलाश एनआइए को 49.88 लाख नकली भारतीय नोट जब्ती के मामले में थी. इसकी तस्वीर भी जांच एजेंसी के पास उपलब्ध नहीं थी.

बता दें कि इससे पहले भी सुरक्षा एजेंसी एनआइए और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के संयुक्त अभियान में  जाली नोट का धंधा करने वाले उमर फारुक को गिरफ्तार किया गया था. जिसके खुलासे ने खुलासे ने NIA को सोचने पर विवश कर दिया था. बीएसएफ सूत्रों के अनुसार पूछताछ में उसने कबूल किया है कि 2000 और 500 रुपये के नए नोट अब पाकिस्तान के साथ-साथ बांग्लादेश में भी छापे जा रहे हैं. इसके बाद टीम पूरी तरीके से  इन विदेशी धंधेबाजों को तलाशने में जुट चुकी थी. आज मोतिहारी में हुई बड़ी कार्रवाई में शातिर फरमुल्लाह की गिरफ्तारी से और भी बड़े खुलासे हो सकते हैं.

यह भी पढ़ें-  NIA ने संदिग्ध ISI एजेंट आबी हुसैन को बेतिया से किया गिरफ्तार