चिराग के निशाने पर फिर सीएम नीतीश, चुनाव आयोग की गाइडलाइन के बहाने कसा तंज

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क :  लोजपा व जदयू के बीच किचकिच खत्म नहीं हो रही है. लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान का हमला लगातार जारी है. कोई भी मौका गंवाना नहीं चाह रहे हैं. चाहे कोरोना जांच का मामला हो, बिहार में बाढ़ का कहर हो अथवा प्रवासी मजदूरों की पीड़ा हो, वे बरसते रहे हैं.

अब चुनाव आयोग के बहाने चिराग ने एक बार फिर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला किया है. बुधवार को एक चैनल से बात करते हुए कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर नीतीश कुमार की सभा हो सकती है, लोजपा की नहीं. यह पूरा मामला बिहार विधानसभा चुनाव से जुड़ा हुआ है.



दरअसल चुनाव आयोग की महत्वपूर्ण बैठक दिल्ली में मंगलवार को हुई थी. इसमें कोरोना काल में चुनावी सभा को लेकर गाइडलाइन तैयार की गई है. सूत्रों की मानें तो इस गाइडलाइन की दो-तीन दिनों में मंजूरी मिल जाएगी. बताया जा रहा है कि गाइडलाइन में तमाम राजनीतिक दलों को निर्देश दिया गया है कि कोरोना काल में वे चुनावी सभा कर सकते हैं, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा.

बताया जा रहा है कि चुनाव आयोग ने यह भी कहा है कि कोरोना काल में सुरक्षित चुनाव कराना प्रायोरिटी में है. इस बाबत आयोग ने अधिकारियों को स्थानीय परिस्थितियों के मुताबिक इलेक्शन को लेकर विस्तृत योजना बनाने को कहा है. इसी पर चिराग ने सीधे नाम लेकर नीतीश कुमार पर हमला किया है.

लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा है कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर केवल नीतीश कुमार की सभा हो सकती है, लोजपा की नहीं. उन्होंने कहा कि बीते 15 अगस्त को पार्टी कार्यालय में बैठक करने और जमुई में लोगों से मिलने के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने में मुश्किल हो रही थी. लोजपा की सभाओं में भीड़ उमड़ती है. ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ चुनावी बैठक करने में मुश्किल होगी.

बता दें कि पहले से चिराग कहते आ रहे हैं कि कोरोना और बाढ़ को देखते हुए बिहार में चुनाव कराना ठीक नहीं है, इसे टाला जाए. बिहार की जनता की जान के साथ खिलवाड़ होगा. इतना ही नहीं, चिराग के पिता रामविलास पासवान ने कहा था कि अभी चुनाव कराना ठीक नहीं.