नीतीश सरकार से तेजस्वी को क्लीन चिट, सुशील मोदी का आरोप खारिज

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : तेजस्वी यादव के बंगला की साज-सज्जा पर फिजूलखर्च को लेकर डिप्टी सीएम सुशील मोदी के आरोप को बिहार सरकार ने खारिज कर दिया है.  भवन निर्माण विभाग ने अपनी जांच रिपोर्ट में स्पष्ट किया है कि तेजस्वी यादव के बंगले में साज-सज्जा को लेकर कोई फिजूलखर्ची नहीं की गई थी.

नहीं हुई कोई फिजूलखर्ची

भवन निर्माण विभाग के प्रधान सचिव चंचल कुमार ने अपने महकमें के इंजीनियरों को क्लीन चिट दे दिया है. उन्होंने तेजस्वी के 5 देश रत्न मार्ग स्थित आवास पर हुए खर्च को वाजिब बताया है और कहा कि किसी तरह का कोई अपव्यय नहीं किया गया था. इस क्लीन चिट के बाद डिप्टी सीएम सुशील मोदी का वो आरोप खारिज हो गया है जिसमें उन्होंने तेजस्वी के बंगले में फिजूलखर्ची का आरोप लगाया था. बता दें कि बिहार के वर्तमान डिप्टी सुशील कुमार मोदी ने तत्कालीन डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के बंगले में करोड़ों की राशि बेवजह खर्च करने का आरोप लगाया था. सुशील मोदी के आरोप लगाने के बाद भवन निर्माण मंत्री महेश्वर हजारी ने भी 5 इंजीनियरों के विरुद्ध कार्रवाई करने की बात कही थी और जांच रिपोर्ट में 5 इंजीनियरों को इस मामले में दोषी होने की बात कही थी.

प्रधान सचिव ने जारी किया गाइडलाइन

विभाग के प्रधान सचिव चंचल कुमार के अनुसार तेजस्वी के बंगले पर करोड़ों की राशि खर्च की गई थी. लेकिन वे विभिन्न मदों में और अलग-अलग वक्त पर किए गए थे. उन्होंने कहा कि अगर ये राशि एक साथ खर्च की जाती तो इसके लिये वित्त विभाग या फिर कैबिनेट से मंजूरी लेनी पड़ती, जो संभव नहीं था.

बता दें कि प्रधान सचिव के क्लीन चिट के बाद यह साफ हो गया है कि तेजस्वी पर लगे आरोप गलत थे. हालांकि आने वाले समय में इतनी बड़ी राशि सिर्फ साज-सज्जा के नाम पर खर्च नहीं हो, इसके लिए प्रधान सचिव ने गाइड लाइन भी जारी की है. इसको लेकर विभाग ने अपने इंजीनियरों को भी नोटिस जारी कर दिया है.

बीपीएससी की 65वीं संयुक्त परीक्षा के लिए 1 जुलाई से आवेदन

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*