बिहार के किसानों को नीतीश सरकार का तोहफा, धान खरीद के लिए अलग से निबंधन की जरूरत नहीं

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क :  भले ही दिल्ली में किसानों का आंदोलन चल रहा है. लेकिन नीतीश सरकार ने किसानों के लिए बड़ा कदम उठाया है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कई बड़े फैसले लिये हैं. कृषि विभाग की साइट पर जो निबंधित किसान हैं, उन्हें स्वतः निबंधित माना जाएगा और धान खरीद के लिए योग्य समझा जाएगा. मुख्यमंत्री की ओर से दिए गए निर्देश में कहा गया है कि सहकारिता विभाग द्वारा किसानों का अलग से निबंधन करने की जरूरत नहीं है. निर्देश में यह भी कहा गया है कि रैयत किसानों की धान अधिप्राप्ति की अधिकतम सीमा को 200 क्विंटल से बढ़ाकर 250 क्विंटल किया गया है. साथ ही गैर रैयत किसानों की धान खरीद की अधिकतम सीमा को 75 क्विंटल से बढ़ाकर 100 क्विंटल किया गया है.

खाते में समय पर पहुंच जाएगी राशि



जिन पैक्सों पर अनियमितता के आरोप थे और वहां फिर से चुनाव हो गए हैं और आरोपी पैक्स अध्यक्ष चुनाव में निर्वाचित नहीं हुए हैं तो उनकी जगह पर नए निर्वाचित पैक्स अध्यक्षों को धान अधिप्राप्ति कार्य की इजाजत दी गयी है. इसके अलावा जो पैक्स फंक्शनल नहीं हैं, उनकी बगल के पैक्सों या व्यापार मंडलों में धान खरीद की व्यवस्था की गयी है तथा उन्हें सुदृढ़ किया जा रहा है. धान की खरीद कराने वाले किसानों के खाते में निर्धारित समय सीमा के अंदर राशि अंतरित की जाएगी.

किसान आंदोलन के नाम पर हाइवे जाम करना उचित नहीं -सुशील मोदी

राज्यसभा के नवनिर्वाचित सदस्य व पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने किसान आंदोलन के नाम पर एक बार फिर विरोधियों को घेरा है. उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन के नाम पर हाइवे जाम करना, उसमें टुकडे-टुकडे गैंग के छात्र नेताओं की फोटो लगाकर उनकी रिहाई की मांग करना, खालिस्तान के समर्थन में नारे लगना और देश के दो औद्योगिक घरानों के व्यवसाय को निशाना बनाना कहीं से उचित नहीं है. उन्होंने कहा कि यह साबित करता है कि दिल्ली के किसान आंदोलन में भारत विरोधी ताकतें घुस आयी हैं या कुछ किसान संगठन ऐसी ताकतों का एजेंडा चला रहे हैं. जो किसान संगठन वास्तव में समाधान चाहते हैं, उन्हें आपत्तिजनक पोस्टरों-नारों पर देश को सफाई देनी चाहिए. उन्होंने सवाल दागा है कि आखिर कौन है जो अन्नदाता किसान की भारत विरोधी छवि बना रहा है और संसद से पारित कानूनों को रद्द करने की जिद को हवा दे रहा है?