अब ‘हम’ होगा मजबूत, मांझी ने संगठन में किए बड़े फेरबदल

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार में विधानसभा का चुनाव होना है. जिसको लेकर सभी दलों ने तैयारी तेज कर दी है. इसी कड़ी में पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने भी मौके की नजाकत को भांपने हुए महागठबंधन से नाता तोड़कर जेडीयू से नाता जोड़ लिया है. अंदरखाने में जेडीयू के साथ इनकी सारी सेटिंग भी हो गयी है.

मांझी ने अपनी पार्टी को एनडीए से जोड़कर अपने आप को मजबूत करने को कोशिश की है. वही संगठन में बड़े पैमाने पर फेरबदल कर पार्टी को और मजबूत करने का काम किया है. चुनावी दृष्टिकोण से पार्टी में बड़े पैमाने पर फेरबदल किया गया है.



फैज सिद्दीकी को पार्टी का युवा राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया गया है. रंजीत चंद्रवंशी अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनी है. जबकि महिला प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष ज्योति देवी बनायी गयी है. धीरेन्द्र मुन्ना को पार्टी का कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है.

एक तरफ मांझी अपनी पार्टी में फेरबदल कर संगठन को और कसने की कोशिश कर रहे हैं तो दूसरी तरफ वो जेडीयू पर हमला करने वाले आरजेडी और लोजपा नेताओं पर हमला कर अपने आप को सार्थक सिद्ध करने में जुट गए हैं.

आज ही मांझी ने तेजस्वी के 17 तीखे सवालों पर पलटवार करते हुए कहा कि पहले उन्हें प्रदेश की जनता को बताना चाहिए कि उनके माता-पिता के शासनकाल में कितने बेरोजगारों को रोजगार दी गयी. लॉ एंड ऑर्डर पर सवाल खड़े करने वाले तेजस्वी को अपने पिता के शासनकाल की सारी बातों को पहले ख्याल रख लेना चाहिए तब एनडीए के शासनकाल पर सवाल खड़े करना चाहिए.

वहीं लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान को लेकर मांझी ने कड़े शब्दों में पलटवार किया था. उन्होंने चिराग पासवान को नसीहत देते हुए यहां तक कह डाला था कि अगर एनडीए में रहना है तो उन्हें एक सहयोगी दल की भूमिका को निभाना चाहिए. ना कि विपक्षी की तरह सरकार के सारे कार्यो पर सवाल खड़े करना चाहिए.